google.com, pub-3648227561776337, DIRECT, f08c47fec0942fa0

“वो भी क्या दिन थे” महिलाओं ने दी रंगारंग प्रस्तुति

Spread the love

नोएडा सेक्टर 62 स्थित इंटरनेशनल फिसकल एसोसिएशन अकादमी आडिटोरियम मे ” वो भी क्या दिन थे” शीर्षक से संगीतमय कार्यक्रम का आयोजन किया गया । जिसमे नोएडा अभिव्यक्ति कल्चरल फोरम संस्था से जुड़ी महिलाओं ने शानदार प्रस्तुति दी।

शनिवार शाम आयोजित इस कार्यक्रम मे महिलाओं ने अपने जीवन के बेहतरीन अनुभवों के साथ एक शानदार संगीतमय प्रस्तुति दी । कार्यक्रम मे सिंगिंग , डांसिंग , कविता , कहानी तथा मेमिकरी करने के लिए एक स्टेज प्रदान किया गया। जिसका महिलाओं ने भरपूर लाभ उठाते हुए आडिटोरियम मे बैठी 500 से अधिक महिलाओं को अपने प्रतिभा के दम पर मंत्रमुग्ध कर दी।

कार्यक्रम मे सन 1950 से लेकर 1970 के दशक के मे गाये फिल्मी गानों का बेहतरीन समावेश किया गया। उससे कही बेहतर महिलाओं के द्वारा उस गाने पर एक्ट तथा डांसिंग रहा। महिलाओं ने ही महिला और पुरुष दोनों की भूमिका को निभायी। उस दौर के फिल्मी हस्ती शम्मी कपूर , बैजंतिमाला, साधना, मधुबाला तथा कई अन्य नायक नायिकाओं पर फिल्माये गये गानों पर शानदार प्रस्तुतिकरण दी गई।

कार्यक्रम का शुभारम्भ 4 बजे किया गया। जिसमे 25 से अधिक महिलाओं ने बारी बारी से अपनी प्रतिभा को दिखाते हुए आडिटोरियम मे बैठी महिलाओं का याद दिलायी ” वो भी क्या दिन थे” । कार्यक्रम मे निदेशक, लेखक, के रुप मे आभा अत्रेय जी ने और भी शानदार बना दी। यहाँ बता दे कि आभा जी अभिव्यक्ति कल्चरल फोरम के फाउण्डर है तथा फिल्म तथा नाटक जगत के जाने माने चेहरा है। हमेशा ही लेख तथा छोटे छोटे नाटक की विडियों बनाकर सामाजिक मुद्दों को उठाती रहती है।

अभिव्यक्ति कल्चरल फोरम उन महिलाओं कों एक स्टेज प्रदान करती जिनके पास प्रतिभा तो है , लेकिन किसी कारण वश इसे प्रस्तुत नही कर पायी है। ऐसे महिलाओं के लिए बहुत ही अच्छी संस्था है। संस्था के आफिस नोएडा सेक्टर 29 मे है और महिने मे एक बार इनके बैठक होते है।

%d bloggers like this: