सत्ता में आने पर पुलिस, प्रशासनिक अधिकारियों और राजनीतिक विरोधियों को पेशाब पिलवाने की इच्छा

Spread the love

जब हमारी सत्ता थी तो हम अधिकारियों को और विरोधियों को पेशाब पिलाता था, यह हम नही कह रहे है यह कह रहे है समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक विजय सिंह। अब पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जेल में पानी पिलाने के लिए खोज रहे है।

सत्ता जिसके पास है उसका क्या इतिहास है। लेकिन आज की राजनीतिक खनक रखने वाले नेता जिनकों राजनीतिक सत्ता में आने पर विरोधियों को पेशाब, पिलाने की इच्छा जागृत होता जा रहा है। इसी को कहते है इतिहास हमेशा दोहराता है, और चरित्र बार बार उजागर होता है। इस बात से साफ साफ समझा जा सकता है कि पूर्व में सत्ता रहे लोगों के द्वारा सिर्फ जनता को ही नही प्रशासनिक अधिकारियों और विपक्षियों से किस प्रकार के बर्ताव करता रहा है।

बहन मायावती के सामने किसी भी अधिकारियों के पास यह अधिकार नही होता था है वह अपनी बात सरकार के सामने में रखे। वही दूसरी तरफ आपने आजम खान के ब्यान तो सुना ही होगा। कलेक्टर उनका क्या करेगा वो तो नौकरी है उसका क्या औकात है वही, समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक विजय सिंह हैं, कह रहे हैं कि अपनी सरकार में बात न मानने वाले पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों और सियासी विरोधियों को पेशाब पिलवाते थे, भाजपा सरकार में नहीं पिला पा रहे हैं तो बहुत गुस्से में हैं।

समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक फिलहाल विलुप्त हो गये है। इधर पुलिस ने उनके विवादित ब्यान पर मामला दर्ज कर लिया है और लालटेन लेकर तलाश जारी है। जैसे ही मिलेंगे उनको उत्तर प्रदेश पुलिस पेशाब तो नही लेकिन पानी पिलाने और खाना खिलाने की व्यवस्था करने में जुटी है।

फिलहाल समाजवादियों के पास धमकी देने और लिस्ट बनाने का बहुत ही उतम समय है, क्योंकि पार्टी के अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने सभी विरोधियों और अधिकारी पत्रकारों के लिस्ट बना रहे है और अगर उनका सरकार आ गया तो यही होगा। भले ही 2022 में जिते या नही लेकिन जितने की खनक नेताओं में पहले से है।

%d bloggers like this: