गरीब की लुगाई सब की भौजाई क्यों होती है ? ”

Spread the love

सुरेश चौरसिया

इस कहावत का सीधा सा अर्थ यह है कि गरीब , निर्बल और सीधे सादे आदमी का हर कोई फायदा उठाता है ,उसका हर कोई इस्तेमाल करता है और प्रायः उसे हर जगह दबाया जाता है ।

अब मुझे यह नहीं पता कि यह प्रथा कब से और क्यों चली आ रही है और कब तक चलती रहेगी कि हमारे समाज मे किसी बड़े आदमी की संस्कारहीन, गुणहीन, चरित्रहीन बीवी को कोई भी भाभी (कहावत वाली भाभी) कहने की हिम्मत नहीं करता। उसको सब बहिन जी , दीदी या मैम कहकर बुलाते हैं, किंतु साधारण व्यक्ति की संस्कारवान , गुणवान और चरित्रवान पत्नी को सब भाभी कहने में आनन्दित महसूस करते हैं ।

एक और उदाहरण पेश करना चाहूंगा-

जब कोई जेबकतरा या कोई छोटा चोर चोरी करते पकड़ा जाता है तो पुलिस उसे मारते हुए थाने ले जाती है और उसे बिना उसकी मर्जी के बढ़िया सा कुटाई प्रोग्राम देती है। लेकिन जब कोई बड़ा घोटालेबाज या करोड़ो की ठगी करने वाले ठग को यही पुलिस पकड़ के थाने लाती है तो पुलिस वाले उन घोटालेबाजो और ठगों की इस कदर मेहमान नवाजी करती हैं, जैसे उन्होंने घोटाला करके इस देश और जनता की सेवा कर दी है। इसलिए तो कहा गया है कि ” गरीब की लुगाई, सबकी भौजाई। “

%d bloggers like this: