कोरोना के संकट से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें… पीएम मोदी ने बताया

Spread the love

पीएम मोदी ने कोरोना वायरस से कैसे बचा जाए, इसे लेकर कई बातें बताईं.

देश में कोरोना वायरस का संकट बढ़ रहा है. पिछले कई दिनों से देश में ढाई लाख से अधिक कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं. 1500 से अधिक प्रतिदिन मौतें हो रही हैं. इस बड़े संकट को देखते हुए आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने देश को संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी (PM Modi) ने कई बातें कहीं. पीएम मोदी ने कोरोना संकट (Corona Virus) से निपटने और लोगों को वायरस से बचने के उपाय बताये और ये भी बताया कि संकट में लोग क्या करें और क्या न करें, जिससे लोग सुरक्षित रहें.

पीएम मोदी ने बताई ये बातें
पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए लोगों को कोरोना वायरस से कैसे बचा जाए, ये बताया. पीएम ने कहा कि सही फैसला सही समय पर लेना ज़रूरी है. देश के लोग आगे आएं. अपने मोहल्लों में कमेटियां बनाएं और लोगों को जागरूक करें. ऐसा करके कंटेनमेंट जोन की ज़रूरत नहीं पड़ेगी और लॉकडाउन का तो सवाल ही नहीं उठता है. हमें देश को लॉकडाउन से बचाना है.

पीएम मोदी ने कहा कि घर के बच्चे, मेरे बाल मित्र घर में अपने परिजनों को हिदायत दें. किसी भी कीमत पर बिना किसी काम के घर से न निकलने दें. अगर घर से बाहर जा रहे हों तो वजह पूछें. और उन्हें नियमों का पालन करने को कहें. बच्चों का जागरूक होना भी बहुत कारगर रहेगा. बिना मास्क के न निकलें.

पीएम मोदी ने कहा कि कठिन से कठिन समय में भी हमें धैर्य नहीं खोना है. हौसले और तैयारियों से हम इस मुश्किल पर जीत हासिल करेंगे.

पीएम मोदी ने कहा कि मैं राज्यों से भी अनुरोध करूँगा कि लॉकडाउन को सबसे आखिरी विकल्प रखें. जो पीड़ा आपने सही है, जो पीड़ा आप सह रहे हैं, उसका मुझे पूरा एहसास है. िजन लोगों ने बीते दिनों में अपनों को खोया है, मैं सभी देशवासियों की तरफ से अपनी संवेदना प्रकट करता हूं. परिवार के सदस्य की तरह मैं आपके दुख में शामिल हूं.

पीएम मोदी ने कहा कि मैं डॉक्टर्स, पैरा मेडिकल स्टाफ, हमारे एम्बुलेंस के ड्राईवर, पुलिस कर्मी… सभी की सराहना करता हूं. आपने पहले भी अपना जीवन दांव पर लगाकर लोगों को बचाया था.

दवाइयों का उत्पादन काफी बढ़ा दिया गया है. अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने का काम तेजी से जारी है. दवा कंपनियों की हर तरह से मदद की जा रही है. दुनिया की सबसे सस्ती वैक्सीन आज भारत के पास है.

दवा कंपनियों की हर तरह से मदद ली जा रही है. कोरोना से इस लड़ाई में हमें हौसला मिलता है कि बहुत सारे लोगों को वैक्सीन का लाभ मिल चुका है. ज़रूरतमंद लोगों तक वैक्सीन पहुंचाई गई है. भारत में 12 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी गई है. जो भी भारत में वैक्सीन बनेगी, उसका आधा हिस्सा राज्यों को मिलेगा.

एक मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीन लगाई जायेगी. सरकारी अस्पतालों में मुफ्त वैक्सीन मिलती रहेगी, इसका फायदा गरीबों को मिलेगा. सरकार की कोशिश जीवन बचाने की है.

श्रमिकों को भी तेजी से वैक्सीन मिलने लगे. राज्य सरकारें श्रमिकों का भरोसा जगाए रखें. वो जहां हैं वहाँ बने रहे. राज्य सरकारों द्वारा दिया गया भरोसा अहम होगा. उन्हें वहाँ ही वैक्सीन लगेगी जहां वो हैं और बाकी इंतज़ाम हैं.

पिछले साल से इस साल हाल अलग हैं. तब इस बीमारी के इलाज के लिए कोई ख़ास जानकारी नहीं थी.

बीते दिनों में जो कदम उठाए गए हैं, उससे हालात सुधरेंगे. इस बार ऑक्सीजन की डिमांड काफी बढ़ी है, इस पर केंद्र, राज्य सरकारें और प्राइवेट सेक्टर सभी की कोशिश है कि हर जरूरतमंद को ऑक्सीजन मिले. ऑक्सीजन का प्रोडक्शन बढ़ाने पर कई स्तर पर काम जारी है.

%d bloggers like this: