प्रदेश सरकार के नये नोएडा बनाने की पहल का स्वागत, गरीब तथा स्माल इंडस्ट्रीज को मिले प्राथमिकता : राईज

Spread the love

नोएडा: उत्तर प्रदेश सरकार ने नोएडा प्राधिकरण को 20,000 हेक्टेयर भूमि पर एक नया नोएडा क्षेत्र विकसित करने की योजना पर काम करने के लिए कहा है। नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों ने कहा कि नोएडा की सीमाएं बुलंदशहर तक विस्तारित होंगी, जो एक निकटवर्ती जिला है, और शहर इसका आकार दोगुना कर देगा, जिसके लिए 20,000 हेक्टेयर का अधिग्रहण किया जाएगा।

अधिकारियों ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य नोएडा में उद्योगों के लिए अधिक अवसर पैदा करना है, जहां औद्योगिक उद्देश्यों के लिए अधिक जमीन नहीं बची है। उन्होंने कहा कि यह 20,000 हेक्टेयर भूमि ग्रेटर नोएडा और बुलंदशहर के बीच स्थित है, और लगभग 10 साल पहले यूपी राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPSIDA) द्वारा अधिसूचित किया गया था।

नोएडा के वरिष्ठ नागरिक व अधिवक्ता अनिल के गर्ग (RIGHT INIATIVE FOR SOCIAL EMPOWERMENT) ने इस फैसले का स्वागत किया है। उन्होने विशाल इंडिया संवाददाता रमन झा से बातचीत में कहा कि हम इस फैसले का स्वागत करते है। लेकिन हमारा एक सुझाव भी है और शिकायत भी क्योंकि पहले ही नोएडा और ग्रेटर नोएडा मे गरीबों के हिस्से के मकान को बिल्डर को बेच दिया गया। जब कि माननीय न्यायालय के डायरेक्शन मे 20-25% EWS/LIG बनाकर समाज के गरीब वर्ग के लिए देने का मास्टर प्लान बनाया गया था। लेकिन उस समय के सरकार ने उसे बिल्डर को बेच दिया और बिल्डर ने उसमें मकान बनाकर बेच लिया हुआ है लेकिन जिसे बेच गया उसे भी आज तक मकान बनाकर नही दिया गया है। दोहरी भ्रष्टाचार की नीति अपनायी गयी थी।

अब जबकि प्रदेश सरकार नये नोएडा बसाने की तैयारी कर रही है तो उनको इसमें सिर्फ इंडस्ट्रीज और EWS/LIG के प्रावधान करने चाहिए। क्योंकि नोएडा ग्रेटर नोएडा में पहले ही बहुत आवासीय जमीन दिये गये है और उसमें बड़े भ्रष्ट्राचार भी किये गये है। लेकिन यहाँ पर नोएडा आर्थारिटी और जो भी जिम्मेदार विभाग है उसे सतर्कता के साथ काम करने की जरूरत होगी। अन्यथा यहाँ भी नोएडा और ग्रेटर नोएडा वेस्ट की तरफ जमीन की लूट होने की संभावना है।

नये नोएडा में स्माल इंडस्ट्रीज को ज्यादा से ज्यादा जगह देना चाहिए ताकि आत्मनिर्भर भारत बन सके और नये नये खिलाड़ी मैदान में उतरे और स्टार्टप करे। जिसके की भ्रष्ट्राचार मुक्त भारत बनाया जा सके और वहाँ से ग्रामीणों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिले। कई लोग जो पहले से डिफाल्टर है लेकिन उनकी पकड़ अच्छी है यहाँ भी चाहेंगे की उनकों कौड़ियों के भाव जमीन मिले और भ्रष्ट्राचार के खेल खेला जाय। ऐसे लोगों से बचने और बचाने की जरूरत है।

%d bloggers like this: