नए CBI निदेशक पद की दौड़ में शामिल यूपी DGP, SSB महानिदेशक और गृह मंत्रालय के विशेष सचिव, किसका पलड़ा भारी?

Spread the love

प्रधानमंत्री के अलावा समिति के दो अन्य सदस्य लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी और भारत के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमन्ना भी उपस्थित थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सोमवार को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के नये निदेशक के चयन के लिए गठित उच्चस्तरीय समिति ने उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक एच सी अवस्थी, सशस्त्र सीमा बल के महानिदेशक कुमार राजेश चंद्रा और केंद्रीय गृह मंत्रालय में विशेष सचिव वी एस के कौमुदी के नाम की सूची तैयार की. यह जानकारी सूत्रों ने दी. अवस्थी उत्तर प्रदेश कैडर के 1985 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी हैं और वह सीबीआई में संयुक्त निदेशक सहित अन्य वरिष्ठ पदों पर रह चुके हैं. वर्तमान में वह उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक हैं.

चंद्रा भी 1985 बैच के आईपीएस हैं और वह बिहार कैडर के अधिकारी हैं. वर्तमान में वह एसएसबी के महानिदेशक हैं जबकि कौमुदी 1986 बैच के आंध्र प्रदेश कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. वह केंद्रीय गृह मंत्रालय के आंतरिक सुरक्षा विभाग में विशेष सचिव हैं. प्रधानमंत्री के अलावा समिति के दो अन्य सदस्य लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी और भारत के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमन्ना भी उपस्थित थे. यह बैठक प्रधानमंत्री आवास पर हुई. लगभग 90 मिनट तक चली बैठक में चौधरी ने अधिकारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया को लेकर सवाल उठाए.

उन्होंने कहा, ‘‘जिस तरीके से चयन की प्रक्रिया अपनाई गई वह समिति के जनादेश से मेल नहीं खाती है. मुझे 109 नाम दिए गए और आज एक बजे तक उनमें से 10 नाम चयनित किए गए तथा चार बजे तक छह नाम तय किए गए. कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग का यह लापरवाहीपूर्ण रवैया बहुत ही आपत्तिजनक है.’’ वर्तमान में 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी और सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक प्रवीण सिन्हा सीबीआई निदेशक का प्रभार संभाल रहे हैं. सिन्हा को यह प्रभार ऋषि कुमार शुक्ला के सेवानिवृत्त होने के बाद सौंपा गया था. वह दो साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद फरवरी में सेवानिवृत्त हुए थे.

%d bloggers like this: