12 साल बाद फोनरवा में बदली सल्तनत, योगेंद्र शर्मा बने अध्यक्ष

Spread the love

नोएडा:फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट वेलफेयर असोसिएशन (फोनरवा) में 12 साल बाद रविवार को सल्तनत बदली। चुनाव में सुरेश तिवारी पैनल को करारी शिकस्त देते हुए योगेंद्र शर्मा ने बाजी मारी। अध्यक्ष पद पर योगेंद्र ने 115 मतों से जीत दर्ज की। सुरेश तिवारी को महज 72 वोट मिले। महासचिव पद पर केके जैन 95 मतों से काबिज हुए, दूसरे नंबर पर जेपी उप्पल को 87 वोट मिले। कोषाध्यक्ष पद पर अशोक मिश्रा को 101 मत मिले, जबकि महिपाल 93 मतों के साथ दूसरे स्थान पर रहे। सेक्टर-52 स्थित फोनरवा कार्यालय में चुनाव संपन्न हुआ। इस बार 208 मतदाताओं में से 204 ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जबकि 4 मतदाता विदेश में थे। हमले में घायल हुए सेक्टर-52 के आरडब्ल्यूए अध्यक्ष ओपी यादव भी मतदान करने पहुंचे।:

सुबह 9.30 बजे से चुनाव होना था, लेकिन आधे घंटे देरी से शुरू हुआ और दोपहर 1:20 बजे तक मतदान हुआ। मतदान कराने के लिए चुनाव अधिकारी सतीश खन्ना, वीके राणा, संजीव श्रीवास्तव और उमाशंकर शर्मा को नियुक्त किया गया था। फोनरवा के चुनाव में आजीवन सदस्यों और संस्थापक सदस्यों को वोटिंग में अधिकार मिलने को लेकर पिछले साल 16 अगस्त को चुनाव कराया गया था। इसमें सुखदेव शर्मा पैनल को 97 और एनपी सिंह पैनल ने 79 मत मिले थे। फोनरवा के संविधान के मुताबिक वोटिंग के अधिकार के लिए 3 चौथाई मत मिलने से संशोधन नहीं हो पाया था। उसके बाद से ही एनपी सिंह पैनल को आभास हो गया था कि जनमत उनके पक्ष में नहीं हैं। इन्हीं कारणों से एनपी सिंह इस बार चुनाव मैदान में खुद न आकर अध्यक्ष पद के लिए सुरेश तिवारी को आगे बढ़ाया।

अध्यक्षः योगेंद्र शर्मा, कोषाध्यक्षः अशोक मिश्रा, वरिष्ठ उपाध्यक्षः कर्नल एसके वैद, ओपी यादव, राजीव गर्ग, उपाध्यक्षः शिव कुमार तिवारी, सत्यपाल यादव, विधि सचिवः टीसी गौड़, सह कोषाध्यक्षः अनिल चौहान, सचिवः सुरेश चौहान (महिला), पवन यादव, योगेश शर्मा, संयुक्त सचिवः पुलकित गुप्ता, सुशील यादव, प्रदीप बोहरा सुरेश तिवारी पैनल

वरिष्ठ उपाध्यक्षः राजेंद्र शुक्ला, महासचिवः केके जैन, उपाध्यक्षः संजीव कुमार, अनिल खन्ना, सचिवः एसपी चौहान, संयुक्त सचिवः सुधीर सूद

%d bloggers like this: