आज राम के दिवाने हो गये!

Spread the love

वोटबैंक की राजनीति अब तेरे क्या-क्या बहाने हो गये,
श्री राम के होने का सबूत माँगने वाले,
आज राम के दिवाने हो गये!

दोहरे चित्रण से लोगो के मन मे झूठी आशा खूब जगाते हो,
जहाँ देखा पलड़ा भारी वहाँ वैसा ही रूप बनाते हो!

हिन्दुओ मे शाकाहार हो मुस्लिम मे माँसाहारी बन जाते हो,
कभी नमाज अदा करते हो, कभी जनेऊँ धारी बन जाते हो!

यूँ ही तुमने हमेशा धर्म को दो पलड़े मे तौला है,
ये श्रद्धा है या राजनीति जो राम को सबका दाता बोला है!

कभी राम मंदिर पर तुमने सरकार का साथ नही दिया,
सत्तर सालो मे कभी श्री राम को याद नही किया!

और अचानक से कैसे ये रोल निभाने लगते है,
मुँह मे राम बगल मे छूरी ये बोल तुम्हारे लगते है!!

नीशू उपाध्याय

%d bloggers like this: