असम में? भयावह हुए बाढ़? के हालात

Spread the love

असम में बाढ़ से लोगों का बुरा हाल है। बदतर हालातों के चलते 52 लाख लोग राज्य में प्रभावित हुए हैं। वहीं मंगलवार को 5 अन्य की मौत के बाद मरने वालों का आंकड़ा 20 पहुंच चुका है। ये भी तब देखने को मिल रहा है जबकि बीते एक दिन से एनडीआरएफ के साथ-साथ भारतीय सेना भी बचाव कार्य में जुट गई है।

राज्य में बाढ़ की स्थिति विकट होने के चलते हजारों लोग बेघर हो गए हैं। पूर्वोत्तर राज्य के 30 जिलों में हजारों गांव जैसे धेमाजी, लखीमपुर, बिश्वनाथ, सोनितपुर, दर्रांग, उदलगुरी, बक्सा, बारपेटा, नलबाड़ी, चिरांग, बोंगाईगांव और कोकराझार में मंगलवार तक लगातार बारिश जारी रही। यहां 4,600 से अधिक गांव बाढ़ के पानी में डूब गए है, और पूर्वोत्तर राज्य में 11 नदियां खतरे के स्तर से ऊपर बह रही हैं। गुवाहाटी से होकर गुजर रही ब्रह्मपुत्र नदी का जल स्तर भी नहीं गिरा है।

मंगलवार को वन अधिकारियों ने बताया था कि काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (एक सींग वाले गैंडे का घर) का 95 प्रतिशत हिस्सा बाढ़ से प्रभावित हुआ है। बता दें कि अब ये पानी धीरे धीरे निकलने लगा है। पिछले दो दिनों में बाढ़ से 17 जंगली जानवरों की मौत हुई है। जानवरों को डूबने से बचने के लिए पार्क से बाहर निकलते देखा गया था। राज्य में कृषि गतिविधियां भी प्रभावित हुई हैं, जिससे लगभग 90,000 हेक्टेयर कृषि भूमि बाढ़ की भेंट चढ़ गई है।

%d bloggers like this: