जयपुर के रामलीला मैदान में 10 से 21 मार्च तक सरस राष्ट्रीय क्राफ्ट मेला का आयोजन किया जा रहा है।

Spread the love

देश के विभिन्न राज्यों के गांवों की महिलाओं का परिश्रम इस उत्सव का सबसे गहरा रंग होगा। राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद् (राजीविका) और ग्रामीण विकास विभाग की ओर से

होली से ठीक पहले जयपुर शिल्प, कला और संस्कृति के रंगों में सराबोर नजर आएगा. देश के विभिन्न राज्यों के गांवों की महिलाओं का परिश्रम इस उत्सव का सबसे गहरा रंग होगा. राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद (राजीविका) और ग्रामीण विकास विकास विभाग की ओर से जयपुर के रामलीला मैदान में 10 से 21 मार्च तक सरस राष्ट्रीय क्राफ्ट मेला का आयोजन किया जा रहा है. सुबह 11 से रात 9 बजे तक तक चलने वाला यह 12 दिन का मेला फाल्गुन में देश के विभिन्न राज्यों की शिल्प, कला और संस्कृति के रंगों से जयपुर को सरोबार करेगा. मेले का वर्चुअल उद्घाटन 10 मार्च को शाम को 6 बजे अशोक गहलोत माननीय मुख्यमंत्री राजस्थान सरकार द्वारा किया जाएगा. राज्य मिशन निदेशक (आईएएस) शुचि त्यागी ने बताया कि मेले में राजस्थान, ओडिशा, असम, केरल, छत्तीसगढ़, बिहार, हरियाणा असम, मेघालय जम्मूू -कश्मीर, नागालैंड, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, केरल आदि विभिन्न राज्यों की स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी निर्धन परिवारों की 300 महिला उत्पादक और शिल्पकार भाग लेंगी.महिलाओं की हस्तनिर्मित विभिन्न उत्पादों की 150 स्टाॅल लगाई जाएंगी. स्टाॅलों पर बिक्री के लिए उपलब्ध महिलाओं की हस्तनिर्मत सुंदर, उत्कृष्ट, मनमोहक कलाकृतियां ग्रामीण महिला प्रतिभा और कौशल को प्रदर्शित करेंगी. विभिन्न राज्यों के परम्परागत व्यंजनों की खुशबू और जायका भी मेले का प्रमुख और निराला आकर्षण है. मेले में सुबह से शाम तक शिल्प, कला और व्यंजन समय को खुशनुमा बनाएंगे. प्रतिदिन शाम को 6:30 बजे से रात 8:30 बजे तक राजस्थानी, कालबेलिया, घूमर, चरी नृत्य, लोकगीत आदि विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जो शिल्प और कला के फाल्गुन को और अधिक रंगीन बनाएंगे.

%d bloggers like this: