यूपी में भगवाधारी है, चुनाव 2022 की तैयारी है।

Spread the love

उत्तर प्रदेश के सत्ता में बैठे भगवाधारी है, चलों चले अब चुनाव 2022 की तैयारी है।

पुरानी बक्शा से निकल चुकी नयी साड़ी है, चलों चले यूपी अब चुनाव की तैयारी है।

अब तक पश्चिम की सभ्यता में जीने वाली, बहन जी बन गयी भारतीय नारी है ।

उत्तर प्रदेश में चल रहा है विकाश रथ, या फिर सब धोखा है ?

जनता किस पर विश्वास करे सबको बारी बारी से दिया मौका है।

ब्राह्मण को प्रबुद्ध बोलकर रिझाने की तैयारी है, चलो चले यूपी 2022 की तैयारी है।

ये कैसा दौर आ गया है भईया, गंगा में डुबकी लगा रही है मईया,

चन्दन लगाकर धोती पहनकर क्यो भटक रहे मंदिर-मंदिर,

जनता क्या भूल गया ये वही टोपी धारी है, चलों चले यूपी में चुनाव की तैयारी है।

ब्राह्मण विकास की बाते करना, एससी एसटी एक्ट पर खामोश ही रहना,

अनपढ़ को आरक्षण देना, पढ़े लिखे तुम सिर्फ प्रुबुद्ध ही रहना।

तिलक तराजू और तलवार, इनको मारों ….. .. चार,

वोट देने से पहले एक बार फिर से कर लेना विचार

इस बार की चुनाव के लिए रहो तैयार

नेताओं के खेल में राष्ट को भूल मत जाना। तालिबानी समर्थकों को धूल चट्टाना।

जब जब धरती नें पुकारा है, कभी परशुराम बनकर, कभी मंगल को कभी आजाद बनकर

तुम प्रबुद्ध हो समाज उत्थान तुम्हारी जिम्मेदारी है, चलो यूपी चले 2022 की तैयारी है।

अब्बा जान पर क्यो भड़क गए, दी धमकी देख लेने की,

अफसर को दिया धमकी सत्ता में आने की,

किसी ने कहा तालिबानी इनको किसी ने बिच्छू कह दिया।

जातिवाद, वंशवाद की राजनीति में सबके सब मदारी है,

चलो यूपी चले चुनाव 2022 की तैयारी है।

आजादी पर बात तुम करते, लव जिहाद पर चुप तुम रहते।

ब्राह्मण को विदेशी कहते और रोहिंग्या तुम चुप क्यो रहते।

अब जबाब मांगने की बारी है, चलो चले यूपी 2022 की तैयारी है।

पुरानी बक्शा से फिर निकली नयी सारी है, चलों चले यूपी 2022 की तैयारी है।

हिंदुस्थान में हिंदुत्व की बात करने को कम्यूनल क्यो बना दिया,

सेक्यूलरिज्म क्या है यह बताने की बारी तुम्हारी है।

चलो चले यूपी चुनाव की तैयारी है।

मईया और बहना लगायी कुंभ में डुबकी, भाई फिर मंदिर-मंदिर फिरे

फिर भी कार्यकर्ता जय श्रीराम कहने के डरे।

आखिर तुम्हारी सल्तनत क्यों इतना अत्याचारी है, चलों चले यूपी 2022 की तैयारी है।

%d bloggers like this: