The Lion King Movie Review: बॉलीवुड स्टाइल रिवेंज ड्रामा है ‘द लॉयन किंग’

Spread the love

हॉलीवुड की फिल्म में बॉलीवुड मसाला देखने को मिले तो क्या कहने. ऐसा ही कुछ हॉलीवुड फिल्म ‘द लायन किंग ‘ में देखने को मिलता है. डिज्नी की लाइव एक्शन फिल्म में न सिर्फ ग्राफिक्स का कमाल है बल्कि एक नकली दुनिया बिल्कुल असली लगती है, और वह भी मुंबइया कहानी के स्टाइल में. ‘द जंगल बुक से दिल जीतने वाले डायरेक्टर जॉन फेवरो की नई पेशकश ‘द लॉयन किंग ‘ भी कुछ कम कमाल नहीं है. ‘द लायन किंग ‘ एक रिवेंज ड्रामा है और ये बाप-बेटे के रिश्ते की कहानी है, बिल्कुल किसी मुंबइया फिल्म की तरह. ‘द लायन किंग’ हिंदी में मुफासा की डबिंग शाहरुख खान ने की है तो सिम्बा की डबिंग आर्यन खान ने की है.

‘द लायन किंग ‘ कहानी मुफासा और सिम्बा की है. बाप-बेटे की जिंदगी मजे में चल रही होती है. लेकिन उनकी जिंदगी में तूफान लाने का काम करता है स्कार. स्कार मुफासा का भाई है और जंगल पर अपनी बादशाहत चाहता है. अपने इन्हीं इरादों के चलते एक दिन वह मुफासा का कत्ल कर देता है और जंगल के राजकुमार सिम्बा को वहां से भागने के लिए मजबूर कर देता है. सिम्बा भागकर रेगिस्तान में पहुंचता है, जहां उसे मिलते हैं तिमोन और पुम्बा. इस तरह सिम्बा उनके साथ समय गुजारने लगता है और फिर जवान हो जाता है. अब सिम्बा का एकमात्र टारगेट अपने घर वापस लौटना है. इस तरह फिल्म की कहानी किसी भी बॉलीवुड फिल्म जैसी है, जो न सिर्फ मजा देती है बल्कि आपको बांधकर रखती है. हालांकि नयेपन का अभाव है.

‘द लायन किंग ‘ कहानी मुफासा और सिम्बा की है. बाप-बेटे की जिंदगी मजे में चल रही होती है. लेकिन उनकी जिंदगी में तूफान लाने का काम करता है स्कार. स्कार मुफासा का भाई है और जंगल पर अपनी बादशाहत चाहता है. अपने इन्हीं इरादों के चलते एक दिन वह मुफासा का कत्ल कर देता है और जंगल के राजकुमार सिम्बा को वहां से भागने के लिए मजबूर कर देता है. सिम्बा भागकर रेगिस्तान में पहुंचता है, जहां उसे मिलते हैं तिमोन और पुम्बा. इस तरह सिम्बा उनके साथ समय गुजारने लगता है और फिर जवान हो जाता है. अब सिम्बा का एकमात्र टारगेट अपने घर वापस लौटना है. इस तरह फिल्म की कहानी किसी भी बॉलीवुड फिल्म जैसी है, जो न सिर्फ मजा देती है बल्कि आपको बांधकर रखती है. हालांकि नयेपन का अभाव है.

द लायन किंग डिज्नी के फैन्स के लिए परफेक्ट ट्रीट है और एक अनोखी दुनिया में जाने का मौका भी. जॉन फेवरो ने जिस तरह के ग्राफिक्स ‘द लॉयन किंग के लिए इस्तेमाल किए हैं, वे बेजोड़ हैं और फिल्म के मजे को दोगुना कर देते हैं. ऐसे में सिम्बा के फैन्स के लिए यह एक मजेदार फिल्म है और वन टाइम वॉच तो है ही.

रेटिंगः 3 स्टार
डायरेक्टरः जॉन फेवरो

%d bloggers like this: