सूरदास की तपस्थली का नाम होगा परासौली, योगी सरकार ने दी मंजूरी

Spread the love

महाकवि सूरदास का तपस्थली का नाम बदलकर पर परासौल किया जायेगा। गोवर्धन पर्वत के निकट स्थित महाकवि सूरदास का तपस्थली महमदपुर गाँव है। अब राजस्व रिकार्ड में भी इसका नाम परासौली ही रखा जायेगा।

सूरदास ब्रज रासस्थली विकास समिति परासौली पिछले चार दशक से मांग करती चली आ रही थी। लेकिन पिछले पन्द्रह साल बीएसपी औऱ एसपी सरकार इस पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि मुस्लिम वोट बैक खिसने का डर सताया। वर्तमान के योगी सरकार ने इसे मंजूर कर लिया है। सरकार के द्वारा इसकी अधिसूचना जारी करने की जानकारी मिलेत ही गाँववासी झुम उठे।

वहाँ मिठाईयाँ बांटी गयी और खुशियाँ मनाई गयी। इसके लिए गांववासियों ने सूरदास ब्रज रासस्थली विकास समिति के सचिव हरि कौशिक के अगुआई में 40 साल से लगातार प्रयास कर रहे थे। ग्रामीण बताते है कि गांव राधा कृष्ण की रास स्थली और उनके प्रेम के साक्षी है। राजस्व विभाग ने 24 मार्च को इसकी अधिसूचना जारी की थी।

प्रतिलिपी दिखाते हुए हरिबाबू कौशिक ने बताया कि वे 1982 से लगातार प्रयासरत थे। कई सरकार आयी और चली गयी। लेकिन किसी ने भी ध्यान नही दिया। लेकिन वर्तमान के योगी सरकार नें हमारी मांगो पर ध्यान दिया। इससे पहले कई मुख्यमंत्रियों ने आश्वासन तो दिया लेकिन किसी ने वादा पूरा नही किया। इस गांव का नाम ऋषि पाराशर के नाम पर परासौली पड़ा था।

%d bloggers like this: