कानून के शासन की ऐसी-तैसी

Spread the love

सड़क पर कब्जे से लेकर सिर तन से जुदा करने की धमकियां सभ्य समाज को असुरक्षा का ही बोध कराती हैं। अब आप ही सोचिये की आप भारत में रहना चाहते है या सिरिया में। जिस बच्चों के लिए आप दिन रात एक करके धन जमा कर रहे है वह उसको भोग पायेगा या नही। जिस देश में एक वरिष्ठ वकील और एक संयासी को खुले धमकी दिया जा रहा हो, था-गुस्ताखे रसूल की एक ही सजा, सिर तन से जुदा। तो सोचिये आने वाले समय आपके बच्चों के भविष्य क्या होगा।

नमस्कार

आप देख रहे है वतन की आवाज और मै हूँ रमन कुमार।

            आखिरकार वसीम रिजवी की कुरान की 26 आयतों को हटाने की मांग वाली याचिका खारिज हो गई। ऐसा ही होने के आसार थे। वसीम रिजवी की याचिका को फालतू करार देकर सुप्रीम कोर्ट ने उन 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगा दिया है। इसे वह कब और कैसे चुकाएंगे, पता नहीं, लेकिन उन्हें अपनी जान भी गंवानी पड़ सकती हैं, क्योंकि जैसे ही याचिका दाखिल होने की खबर आई, वैसे ही शिया और सुन्नी संगठनों की ओर से उनके खिलाफ फतवे जारी करने शुरू हो गए।

मुरादाबाद बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मीरुल हसन जाफरी को इस सबसे संतोष नहीं हुआ। उन्होंने वसीम के सिर पर 11 लाख रुपये का इनाम रख दिया।उन्होंने बताया कि वह इस पैसे की व्यवस्था चंदा लेकर करेंगे और जरूरत पड़ी तो अपनी औलाद तक बेच देंगे। बात बात पर संविधान और लोकतंत्र की बात करने वाले असदुद्दीन ओवैसी की ओंल इडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद उल मुस्लिमीन को फिर भी चैंने नहीं मिला। उसकी कानपुर शाखा की ओर से सार्वजनिक तौर पर ऐसा पोस्टर लगाया गया, जिस पर लिखा था-गुस्ताखे रसूल की एक ही सजा, सिर तन से जुदा।

पोस्टर में वसीम रिजवी के साथ स्वामी नरसिंहानंद सरस्वती के कटे हुए सिर चित्रित किए गए थे। ओवैसी समर्थकों को कोई संशय न रहे, इसलिए पोस्टर में पार्टी का चुनाव चिन्ह पतंग भी शोभायमान था। कानून के शासन और सभ्य समाज को आतंकित करने वाला यह पोस्टर जब इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ, तब पुलिस ने उसे हटवाया और यह सूचना दी कि आपत्तिजनक एवं भड़काऊ पोस्टर लगाए जाने के संबंध में एक एफआइआर 153 ए, 295 ए के तहत दर्ज की गई है। विवेचना कर आरोपियों की पहचान की जा रही है। तदनुसार कार्रवाई की जाएगी। हो सकता है कि ऐसा ही हो। जो भी हो, इस पोस्टर में वसीम रिजवी के साथ स्वामी नरसिंहानंद का कटा सिर तलवार संग इसलिए चित्र किया गया था, क्योंकि कुछ दिनों पहले उन्होंने मुहम्मद साहब के खिलाफ बयान दिए थे।

आप सवाल नही कर सकते अन्यथा आपकी गर्दन काट दी जायेगी।

            नरसिंहनिंद गाजियाबाद के डासना स्थित उस मंदिर के पुजारी हैं, जहां पर कथित तौर पर पानी पीं गए एक मुस्लिम जेहादी की पिटाई कर दी गई थी। नरसिंहानंद तभी से चर्चा में हैं। मुहम्मद साहब के खिलाफ उनके बयान के बाद उनका भी सिर तन से जुदा करने की मांग तेज हुई लेकिन सबसे पहले यह मांग दिल्ली से आम आदमी के पाटी के विधायक अमानतुल्ला खान ने की। वही आम आदमी पार्टी जिसके नेता अरविन्द केजरीवाल है, जो आज तक लोगों पर सवाल ही उठाते रहे है। नेताओं को खुलेआम मंच से चोर कहा था जिसका विरोध मंच पर बैठे बाबा रामदेव नें किया था। केजरीवाल हनुमान जी के बड़ा पुजारी होने का ढोंग भी करता है लेकिन उन्हे राम के आदर्श से चीर है। रामायण मे सीती के चरित्र पर भी सवाल उठे और भगवान राम नें मर्यादा का पालन किया।

आम आदमी पार्टी के विधाक अमानतुल्ला नें ट्वीट करके कहा कि इस शख्स की जुबान और गर्दन काटकर सख्त सजा दी जानी चाहिए। इसी के साथ उन्होंने बड़ी चतुराई से यह भी जोड़ा था कि उनका विश्वास भारतीय संविधान में है और उन्हें उम्मीद है कि दिल्ली पुलिस नरसिंहानंद के नफरती बयान का संज्ञान लेगी। सबसे पहले ट्विटर ने इस आपत्तिजनक ट्वीट का संज्ञान लिया और उसे हटा दिया। कायदे से उनका अकाउंट रद होना चाहिए था, लेकिन ट्वीटर से कोई उम्मीद करना व्यर्थ है, क्योंकि वह जितना दुराग्रही है उतना ही पक्षपाती भी।

            हालाकि अमानतुल्ला के ट्वीट पर दिल्ली पुलिस ने एक एफ.आइ.आर. दर्ज कर ली है, लेकिन कुछ होने की उम्मीद कम ही है। अपने देश में ऐसा ही होता है। अराजक-उन्मादी तत्व जब-तब इसे या उसे धमकाते हैं अथवा घोर आपत्तिजनक बयान देते हैं, लेकिन पुलिस मुश्किल से ही कोई कार्रवाई करती है। आखिर यह तथ्य है कि दिल्ली पर चढ़ाई करने इंडिया गेट पर हल चलाने संसद में मंडी खोलने, पिर से बैरिकेड तोड़ने और सरकारी गोदाम ध्वस्त करने की खुलेआम धमकियां देने वाले राकेश टिकैत स्वच्छंद घूम रहे हैं।

कोई नहीं जानता कि उनके समेत अन्य किसान नेताओं के खिलाफ दर्ज एफ.आइ.आर. का क्या हुआ? निःसंदेह दोष केवल पुलिस का नहीं, क्योंकि वह तो वही करती है, जैसा शासन तंत्र उसे करने को कहता है।लाल किला पर 500 पुलिस वाले को जख्मी करने वाली भीड़ और उसके नेता आज भी खुलेआम घुम रहा है। दिल्ली के सीमांत इलाकों के मुख्य मार्ग पिछले करीब चार महीने से बाधित हैं, लेकिन कोई कुछ नहीं कर पा रहा है-न पुलिस, न सरकार और न ही सुप्रीम कोर्ट। बीते एक वर्ष में सुप्रीम कोर्ट कम से कम तीन बार यह कह चुका है कि सड़कों पर कब्जा नहीं किया जा सकता, फिर भी उन पर कब्जा बरकरार है और अब तो उन पर घर भी बनाए जा रहे हैं। आखिर ऐसे आदेशों-निर्देशों का क्या मतलब जो सुप्रीम कोर्ट की नाक के नीचे भी अमल में न लाए जा सकें?

            अपने देश में कानून के शासन की ऐसी-तैसी करने वाली हरकतों के बीच नार्वे से यह खबर आई है कि वहां की प्रधानमंत्री पर पुलिस ने इसलिए जर्माना लगा दिया, क्योंकि अपनी जन्मदिन की पार्टी में उन्होंने निधारित 10 के बजाय 13 लोग बुला लिए थे। भारत नार्वे जैसा नहीं है और फिलहाल वहां जैसी मुस्तैद पुलिस हमारे नसीब में नहीं, लेकिन उसे कानून के शासन की खुलेआम खिल्ली उड़ानें वालों के खिलाफ तो नख-शिख-दंत विहीन नहीं ही दिखना चाहिए। और कुछ न सही उसे कम से कम एलानिया कत्ल की धमकियों पर तो सक्षम दिखना ही चाहिए।

सिर तन से जुदा करने के एलान एलानिया कत्ल के माफिक ही हैं। ऐसे एलान तो किसी अपराधी के लिए भी स्वीकर्य नहीं। इस तरह के एलान समाज में सिहरन पैदा करने, जंगलराज कायम हो जाने और कबीलाई युग की वापिस की मुनादी ही करते हैं। ऐसे एलान इसलिए गंभीर चिंता का कारण है, क्योंकि सबको पता है कि कमलेश तिवारी का क्या हश्र हुआ था? उनका सिर तन से जुदा करने का एलान हुआ और आखिरकार ऐसा ही हुआ। कोई कुछ नहीं कर सका-पुलिस भी नहीं। उनका उन्हीं के घर कत्ल कर दिया गया। स्वामी नरसिंहानंद को अंदेशा है कि उनके साथ वही हो सकता है, जो कमलेश तिवारी के साथ हुआ। यदि उनके साथ कुछ अनर्थ होता है तो कानून के शासन के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने जैसी बात होगी।  

लेकिन ये बेशर्म नेता और कानून कुछ ऐसा ही होते देखने की उम्मीद रखता है। ऐसे में पुष्पेन्द्र और स्वयं नरसिंहानन्द की बात सच साबित होता दिख रहा है कि सरकार आपकी रक्षा नही कर सकती है। सत्ता के लोलूप उसे ऐसा करने से रोकता है। कल ही जिस प्रकार से राजस्थान में 30 प्रतिशत मुसलमान की आबादी वाले क्षेत्र में हिन्दू के मकान दुकान जला दिया गये और सरकार चुपर रही है। बात इतने तक ही नही है राजस्थान पुलिस को भी दौड़ा दौड़ा कर पीटा गया। पुलिस बिहार की हो या राजस्थान की उसकी सुरक्षा भी अब आम जनता को स्वयं ही करनी होगी। अब पुलिस आपकी सुरक्षा नही कर सकती है आपको पुलिस की सुरक्षा करना होगा। क्योंकि बंगाल में जिस प्रकार से मस्जिद से लाउडस्पीकर बजाकर भीड़ी इक्ट्ठा किया गया और एक बिहार पुलिस के एसएचओ का हत्या कर दिया शांतिदुतों ने।

इन शांतिदुतों को आप कितने को जेल में रखोंगे। जेल भी इनसे भरने लगा है। कुछ दिन बाद पता चलेगा कि जेल जिहाद हो चुका है।

दोस्तों अगर ये विडियों आपको अच्छा लगा हो तो लाईक और शेयर जरूर कीजिये।

जय श्री राम जय हिंद जय भारत 

इस आर्टिकल के कुछ अंश जागरण से लिए गया है 14-04-2021

%d bloggers like this: