कुछ लोगो की तो आदत होते है हर बात में खुशी ढ़ूढ ही लेते है।

Spread the love

अगर आँख में आंसू ना होती तो, आँखे इतनी खूबसूरत ना होती।
अगर दर्द ना होता तो खुशी की इतनी कीमत ना होती।
अगर मिल जाता सब कुछ सिर्फ चाहने से।
तो दुनिया में महादेव की जरूरत ना होती। हर हर महादेव।

कुछ लोगो की तो आदत होते है हर बात में खुशी ढ़ूढ ही लेते है। अब कांग्रेस को ही ले लिजिए, इस बात में दुखी नही है कि बंगाल में उसको जीरो मिला है, लेकिन इस बात से खुश है कि कभी कांग्रेस में रहे हेमंत विश्वशर्मा असम के मुख्यमंत्री बनने जा रहे है।

हैमंत जी और बीजेपी ने एक ही दाव में असम से विपक्ष ही खत्म कर दिया इसके लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

हाँ कांग्रेस के महिला अध्यक्ष को शपथ ग्रहण में जरूर बुलाईयेगा।

कोई क्यों किसी लुभाए दिल, कोई क्यों किसी से लगाए दिल, जो बेचते थे दर्द दिल की दवा, वो अपनी दुकान बढ़ा गए।।

ऐसे एक आइडिया हैः- अगर इंजेक्शन को नदी में बहाया जा रहा है, तो नदी में नहाने से निश्चित ही लाभ मिलेगा, आखिर 36 हजार इंजेक्सन नदी के धारा मे ही तो बह रहे है। ऐसे कांग्रेस सरकार की ये चाल तो अच्छे लगे। न रजिस्ट्रेशन और ना वेक्सिन, नदी में नहाओं ठीक हो जाओ।

राजनितिक में सबकुछ जायज है, जिसके पास लालाटेन में डालने के लिए तेल नही था वह अचानक 900 करोड़ का मालिक बन गया है। फिर उस लालटेन ने कितने घरो में आग लगाया होगा। भाई वो 900 करोड़ हमारे थोड़े ही थे। उसी गरीब मजदूर यादव, मुस्लिम कुर्मी वगैरह, वगैरह के थे।

ऐसे नेताओं के बेटा कौन सी स्कूल में पढ़ते है, बिना कमाए ही बैंक अकाउण्ट में 500 करोड़ । ऐसे यह बात अब जनाता भी जान चुकी है, इसलिए पंचायत चुनाव में भी एक दूसरे के जान लेने के लिए आमादा रहते है।

आजकल टवीटर पर एक नये प्रकार से प्रमोशन स्कीम चलाये जा रहे है। 12 बजे दिन में एक टवीटर आते है। अगर उठ गए हो तो, 1000 फालोवर्स तुरंत पाये। आप समझ ही गए होंगे कि ये लोग खुद कितने बजे उठते होंगे। ऐसे कुछ लोग तो 70 साल से सो ही रहे है, कुछ भी करो इनका क्या। ये तो इतना ही कहेंगे बस जागों हिंदू और फिर सो जायेंगे। ऐसे सोये हुए फालोवर्स का क्या करेंगे।

बंगाल में कोरोना से ज्यादा खतरनाक तो ममता दीदी के गुंडे है।

%d bloggers like this: