आवारा डॉगी को दिया था सहारा, अब लापता, नौकरी दांव पर लगाकर ढूंढ रहीं

Spread the love

हाइलाइट्स
लापता डॉगी की तलाश में दांव पर लगाई नौकरी
दिल्ली की प्रज्ञा मिश्रा को सड़क पर मिली थी कुकी
नोएडा के शेल्टर होम को सौंपा था, वहां से हुई लापता
तलाश में दो हजार किलोमीटर तक का सफर तय कर चुकीं है प्रज्ञा

नोएडा: अपनों के खो जाने का दुख हर किसी को होता है, लेकिन दुनिया में ऐसे लोग भी हैं, जिनके लिए अपनों का मतलब सिर्फ घर, परिवार और दोस्त नहीं हैं। हर बेजुबां भी उन्हें अपना ही लगता है। ऐसी ही एक शख्स हैं दिल्ली की प्रज्ञा मिश्रा। सड़क से उठाकर उन्होंने एक डॉगी (नाम कुकी) को सहारा दिया, लेकिन कुछ समय पहले कुकी लापता हो गई। प्रज्ञा उसकी तलाश में दिल्ली ओर ग्रेटर नोएडा के बीच अब तक दो हजार किलोमीटर से ज्यादा का फासला तय कर चुकी हैं। कुकी की तलाश में वह अपनी जॉब तक दांव पर लगा चुकी हैं। उनका आरोप है कि पुलिस और कुकी को रखने वाले शेल्टर संचालक कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। उन्हें धमकी तक दी जा रही है।

साउथ दिल्ली के ग्रेटर कैलाश इलाके की रहने वाली प्रज्ञा मिश्रा उत्तराखंड स्थित एक संस्था में रीजनल डायरेक्टर हैं। उन्हें पशु-पक्षियों से बेहद लगाव है। अब तक वह सैकड़ों कुत्तों को सड़क से उठाकर अडॉप्ट करा चुकी हैं। उन्होंने बताया कि 28 मई को उन्हें देसी नस्ल की डॉगी दिल्ली में लावारिस हालत में मिली थी। वह उसे वहां से उठाकर नोएडा के सेक्टर-154 स्थित एक शेल्टर होम लाईं थी। उनके अनुसार 1 जुलाई को शेल्टर होम से बताया गया कि कुकी भाग गई है।

गांव-गांव घूम रहीं
प्रज्ञा के मुताबिक, कुकी के लापता होने की सूचना मिलते ही वह करीब 340 किलोमीटर दूर उत्तराखंड से नोएडा पहुंची। 6 जुलाई से लगातार वह उसकी तलाश में दिल्ली से ग्रेटर नोएडा का करीब 140 किलोमीटर का चक्कर रोज लगा रही हैं। यहां के पंडितों की डेरी, गुर्जरों की डेरी, बादौली बांकर, कोंडली बांगर, झट्टा बादौली, अमन सोसायटी आदि जगहों पर घर-घर और खेतों पर जाकर लोगों से कुकी के बारे में पता कर रही हैं। यमुना नदी के किनारे दूर-दूर तक पैदल चलकर उसकी तलाश की, लेकिन उसका कोई पता नहीं चल पा रहा है। वह कहती हैं कि मुझे नहीं पता कि वह मर चुकी है या जिंदा है। जब तक वह उसे नहीं खोज लेती, तब तक वह आराम नहीं करेंगी। गांव वालों ने भी उनहें मदद का भरोसा दिया है।

खोजने वाले को 10 हजार का इनाम
प्रज्ञा अब तक ग्रेटर नोएडा और नोएडा के गांवों और सोसायटीज में जाकर करीब 500 पोस्टर बांट चुकी हैं। इसकी तलाश करने वाले को उन्होंने 10 हजार रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है।

नौकरी भी पड़ी खतरे में
कुकी की तलाश में प्रज्ञा रोज दिल्ली से ग्रेटर नोएडा के चक्कर लगा रही हैं। ऐसे में उनकी नौकरी भी खतरे में पड़ गई है। उन्हें बार-बार ड्यूटी जॉइन करने के लिए कहा जा रहा है। उनका आरोप है कि शेल्टर होम संचालक व पुलिस मदद नहीं कर रही है। नॉलेज पार्क थाने में मामले की तहरीर दी गई है, लेकिन रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की गई।

%d bloggers like this: