पेट्रोल-डीजल के मोर्चे पर मिली राहत! 25 दिन की शांति

Spread the love

मार्च महीने की आज 24 तारीख है, और आज पहली बार पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव हुआ, इस बदलाव से आम आदमी को राहत मिली है. 25 दिनों तक शांति रखने के बाद पेट्रोल डीजल की कीमतें कम हुई हैं. ये इस साल की पहली कटौती है. इसकी सबसे बड़ी वजह है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 15 दिन में 10 परसेंट तक टूट चुका है. कच्चे तेल की कीमत 71 डॉलर प्रति बैरल की ऊंचाई से गिरकर 64 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई है. इसके पहले फरवरी में पेट्रोल-डीजल 16 बार महंगा हुआ था. हालांकि पेट्रोल-डीजल के दाम अब भी रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं.

आज सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल
पेट्रोल-डीजल की कीमतों में आखिरी बार बदलाव 27 फरवरी 2021 को हुआ था, जब दिल्ली में पेट्रोल के दाम 24 पैसे बढ़े थे और डीजल 15 पैसे महंगा हुआ था. लगातार 25 दिनों से पेट्रोल-डीजल के दाम स्थिर थे, आज पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम होने से आम लोगों को राहत मिली है. आज पेट्रोल और डीजल में 17 पैसे प्रति लीटर की कटौती की गई है. इस कटौती के बाद दिल्ली में पेट्रोल का रेट 91 रुपये के नीचे आ गया है. चेन्नई में पेट्रोल 93 रुपये से कम हो गया है. हालांकि इस कटौती के बावजूद कीमतें रिकॉर्ड लेवल पर हैं. मुंबई में पेट्रोल के दाम 97.57 रुपये प्रति लीटर से घटकर 97.40 रुपये प्रति लीटर हो गया है.

डीजल दिल्ली में सबसे महंगा डीजल पिछले साल जुलाई के आखिरी हफ्ते में बिका था, तब भाव 81.94 रुपये प्रति लीटर थे और पेट्रोल का रेट 80.43 रुपये प्रति लीटर था. यानी उस वक्त पेट्रोल से महंगा डीजल बिका था.

दो राज्यों में पेट्रोल 101 रुपये के पार
फरवरी में दो राज्यों राजस्थान और मध्य प्रदेश में पेट्रोल ने 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर लिया था. राजस्थान के श्रीगंगानगर में आज पेट्रोल 19 पैसे सस्ता होकर 101.65 रुपये है जो कि देश में अब भी सबसे महंगा है, जबकि डीजल 17 पैसे सस्ता होकर 93.60 रुपये प्रति लीटर हो गया है. मध्य प्रदेश के अनूपपुर में भी पेट्रोल 101 रुपये के पार है और डीजल करीब 92 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है.

4 मेट्रो शहरों में Petrol की कीमतें
दिल्ली में आज पेट्रोल 18 पैसे सस्ता होकर 90.99 रुपये प्रति लीटर पर मिल रहा है. मुंबई में भी पेट्रोल 97.57 रुपये प्रति लीटर से घटकर 97.40 रुपये प्रति लीटर हो गया है. कोलकाता में पेट्रोल 17 पैसे सस्ता होकर 91.18 रुपये है. चेन्नई में पेट्रोल 92.95 रुपये प्रति लीटर पर बिक रहा है.

4 मेट्रो शहरों में Petrol की कीमतें
शहर कल का रेट आज का रेट
दिल्ली 91. 17 90. 99
मुंबई 97.57 97.40
कोलकाता 91.35 91.18
चेन्नई 93.11 92.95

2021 में पेट्रोल-डीजल में लगी आग
मार्च में पहली बार पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बदलाव हुआ ये बदलाव राहत भरा रहा. लेकिन इसके पहले फरवरी में पेट्रोल-डीजल के रेट में 16 बार बढ़ोतरी हुई है. इससे पहले जनवरी में रेट 10 बार बढ़े थे. इस दौरान पेट्रोल की कीमत में 2.59 रुपए और डीजल में 2.61 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी. साल 2021 में अब तक तेल की कीमतें 26 दिन बढ़ाईं गई हैं. इस दौरान पेट्रोल 7.28 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है. 1 जनवरी को पेट्रोल का भाव 83.71 रुपये था, आज 90.99 रुपये प्रति लीटर है. इसी तरह दिल्ली में 1 जनवरी से लेकर आज तक डीजल 7.43 रुपये प्रति लीटर महंगा हुआ है. 1 जनवरी को दिल्ली में डीजल का दाम 73.87 रुपये प्रति लीटर था, आज 81.30 रुपये है. आज की कटौती इस साल की पहली कटौती है.

1 साल में पेट्रोल 21 रुपये से ज्यादा महंगा हुआ
अगर आज की कीमतों की तुलना ठीक साल भर पहले की कीमतों से करें तो 24 मार्च 2020 को दिल्ली में पेट्रोल का रेट 69.59 रुपये प्रति लीटर था, यानी साल भर में पेट्रोल 21.40 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है. डीजल भी 24 मार्च 2020 को 62.29 रुपये प्रति लीटर था, यानी डीजल भी साल भर में 19.01 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है. आपको बता दें कि एक साल पहले इस दौरान कच्चा तेल 30 डॉलर प्रति बैरल के नीचे था.

आज की कटौती के बाद भी डीजल की कीमतें महंगाई के नए आसमान पर पहुंच चुकी हैं. मुंबई में डीजल 88.42 रुपये प्रति लीटर है, जो कि अबतक सबसे महंगा रेट है. दिल्ली में डीजल 81.30 रुपये प्रति लीटर, कोलकाता में डीजल 84.18 रुपये प्रति लीटर है, चेन्नई में डीजल का रेट 86.29 रुपये प्रति लीटर है.

4 मेट्रो शहरों में Diesel के दाम
शहर कल का रेट आज का रेट
दिल्ली 81.47 81.30
मुंबई 88.60 88.42
कोलकाता 84.35 84.18
चेन्नई 86.45 86.29

वजह नंबर 1- पेट्रोल डीजल की कीमतें बेलगाम क्यों हैं, इसके पीछे एक तर्क है कि अक्टूबर से लेकर अबतक कच्चे तेल का भाव करीब 50 परसेंट बढ़कर 66 डॉलर के पार चला गया है. इस साल अब तक कच्चा तेल 24 परसेंट तक महंगा हो गया है. क्योंकि दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियों में अच्छी तरक्की दिख रही है. हालांकि ये पूरी वजह नहीं है, क्योंकि पिछले साल जनवरी में कच्चे तेल की कीमतें आज से काफी कम थीं, बावजूद इसके लोगों को पेट्रोल डीजल महंगा मिल रहा था.

वजह नंबर 2- पेट्रोल डीजल महंगा होने के पीछे सबसे बड़ा कारण है केंद्र और राज्य सरकारों का टैक्स है. 2020 की शुरुआत में पेट्रोल पर सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी 19.98 रुपये थी, जो अब बढ़ाकर 32.98 रुपये कर दी गई है. इसी तरह डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 15.83 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 31.83 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है.

वजह नंबर 3- केंद्र के अलावा राज्य सरकारों ने भी पेट्रोल-डीजल पर VAT बढ़ाया है. दिल्ली सरकार ने ही पेट्रोल पर VAT 27 परसेंट से बढ़ाकर 30 परसेंट कर दिया है. जबकि डीजल पर VAT मई में 16.75 परसेंट से बढ़ाकर 30 परसेंट कर दिया था, लेकिन जुलाई में फिर इसे घटाकर 16.75 परसेंट कर दिया था. पेट्रोल का बेस प्राइस 31.82 रुपये प्रति लीटर है, ऐसे में केंद्र और राज्यों का टैक्स मिलाकर देखा जाए तो वो बेस प्राइस से 180 परसेंट के करीब टैक्स लेती हैं. इसी तरह सरकारें डीजल के बेस प्राइस से 141 परसेंट टैक्स वसूल रही हैं.

2008 में कच्चा तेल 147 डॉलर पर था, पेट्रोल 45 रुपये पर
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम 64 डॉलर प्रति बैरल हैं, तब पेट्रोल 100 रुपये के पार बिक रहा है, कच्चा तेल 2008 में 147 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया था, तब पेट्रोल का रेट 45 रुपये प्रति लीटर था.

खुद देखिए अपने शहर में पेट्रोल डीजल के दाम
पेट्रोल-डीजल की कीमत आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं. इंडियन ऑयल IOC आपको सुविधा देता है कि आप अपने मोबाइल में RSP और अपने शहर का कोड लिखकर 9224992249 नंबर पर भेजें. आपके मोबाइल पर तुरंत आपके शहर में पेट्रोल और डीजल का रेट आ जाएगा. हर शहर का कोड अलग-अलग है, जो आपको IOC आपको अपनी वेबसाइट पर देता है

रोजाना सुबह 6 बजे बदलती हैं कीमतें
रोजाना सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की नई कीमतें लागू हो जाती हैं. पेट्रोल और डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और बाकी कई चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है.

zee news

%d bloggers like this: