पुलिस का इजाजत देने से इनकार, कोलकाता में ओवैसी की रैली रद्द

Spread the love

असदुद्दीन ओवैसी की पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बृहस्पतिवार को होने वाली रैली को पुलिस से अनुमति नहीं मिलने की वजह से रद्द कर दिया गया है। पार्टी के सूत्रों ने बताया कि ओवैसी को अल्पसंख्यक बहुल मेतियाब्रुज़ इलाके में रैली के जरिए बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी का प्रचार अभियान का आगाज़ करना था।

एआईएमआईएम के प्रदेश सचिव जमीर उल हसन ने बताया कि पुलिस ने रैली के लिए उन्हें इजाजत नहीं दी। हसन ने बताया, “हमने इजाज़त के लिए 10 दिन पहले आवेदन दिया था, मगर आज हमें पुलिस ने सूचित किया कि वे हमें रैली करने की इजाज़त नहीं देंगे। हम टीएमसी के ऐसे हथकंडों के आगे झुकेंगे नहीं। हम चर्चा करेंगे और कार्यक्रम की नई तारीख बताएंगे।” कोलकाता पुलिस ने मामले पर टिप्पणी करने से इनकार दिया है। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसद सौगत रॉय ने रैली के लिए इजाज़त नहीं मिलने में अपनी पार्टी की भूमिका से इनकार किया।

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भाजपा के कार्यक्रम एक ही मार्ग पर होने की वजह से दोनों दलों के कार्यकर्ताओं के बीच बुधवार को संघर्ष हो गया। जिस रास्ते से भाजपा की परिवर्तन यात्रा निकल रही थी उसी मार्ग पर टीएमसी के नेता व कार्यकर्ता धरना दे रहे थे। रोड शो में हिस्सा ले रहे भाजपा के कार्यकर्ता सियालदह की ओर बढ़ रहे थे, तभी संघर्ष शुरू हो गया। दोनों पार्टियों के झंडों को फाड़ दिया गया तथा सड़क किनारे बाइकों और पुलिस की गाड़ियों को क्षतिग्रस्त किया गया। दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे पर इसका आरोप लगाया। भगवा दल के सूत्रों ने दावा किया कि टीएमसी के समर्थकों ने उन पर जूते और झाड़ू फेंकी और पुलिस पर हस्तक्षेप नहीं करने का आरोप लगाया।

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो मौके पर पहुंचे और पार्टी कार्यकर्ताओं को शांत कराया। भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने सवाल किया कि पुलिस यात्रा की अनुमति देने के बाद उसी मार्ग पर प्रतिद्वंद्वी पार्टी के कार्यक्रम को कैसे इजाजत दे सकती है। दूसरी ओर टीएमसी ने आरोप लगाया कि भाजपा के कार्यकर्ताओं ने पथराव किया और उसके कुछ समर्थकों को जख्मी कर दिया तथा गाड़ियों को नुकसान पहुंचाया। बाद में पुलिस ने सड़क खुलवाई और यात्रा शुरू हुई। यह कॉलेज स्ट्रीट पर शांतिपूर्ण तरीके से खत्म हो गई। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय़ और हाल में टीएमसी छोड़ भगवा दल में जाने वाले राजीब बनर्जी ने रोड शो में हिस्सा लिया। रोड शो के बाद एक कार्यक्रम में भारतीय क्रिकेटर अशोक डिंडा कुछ अन्य के साथ भाजपा में शामिल हो गए।

%d bloggers like this: