RBI का तोहफा, RTGS व NEFT के लिए बैंकों की जरूरत नहीं

Spread the love

RBI ने पेमेंट ऑपरेटर्स को तोहफा दिया है. अब उन्हें RTGS व NEFT के लिए बैंकों जाने की जरूरत नहीं होगी.

केंद्रीय बैंक आरबीआई ने वित्त वर्ष 2021-22 की पहली मॉनेटरी पॉलिसी (Monetary Policy) में अहम फैसला लिया है. नॉन-बैंक पेमेंट (Non-Bank Payment) संस्थानों के लिए आरबीआई (RBI) द्वारा संचालित केंद्रीयकृत पेमेंट सिस्टम आरटीजीएस (RTGS) और एनईएफटी (NEFT) की सदस्यता की अनुमति दी गई है. आरबीआई के इस प्रस्ताव से पीपीआई (PPI), कार्ड नेटवर्क्‍स (Crd Networks), वाइड लेवल एटीएम ऑपरेटर्स (Wide level ATMs) जैसे नॉन-बैंक पेमेंट सिस्टम भी केंद्रीय बैंक द्वारा संचालित की जाने वाली आरटीजीएस और एनईएफटी की सदस्यता ले सकेंगे.

इस प्रवृत्ति को मजबूत करने और भुगतान प्रणालियों में गैर-बैंकों की भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए, भुगतान प्रणाली ऑपरेटरों को रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित सीपीएस में सीधे सदस्यता लेने का प्रस्ताव है.

इस सुविधा को बढ़ाने से वित्तीय सिस्टम में सेटलमेंट जोखिम को कम करने में मदद मिलेगी और साथ ही देश में डिजिटल वित्तीय सुविधाओं को बढ़ावा देने में भी मदद मिलेगी.

हालांकि, ये संस्थाएं इन सीपीएस में अपने लेन-देन के निपटान की सुविधा के लिए रिजर्व बैंक की किसी भी कैश की सुविधा के पात्र नहीं होंगी.

%d bloggers like this: