google.com, pub-3648227561776337, DIRECT, f08c47fec0942fa0

रेलवे🚂 ने कबाड़ बेचकर 👌कमाए 35 हजार करोड़ 💴रुपये

Spread the love

भारतीय रेलवे की एक बड़ी कामयाबी सामने आई है। रेलवे ने स्क्रैप बेचकर 10 साल में 35,073 करोड़ रुपये की कमाई की है। रेलवे की तरफ से एक आरअीआई आवेदन के जवाब में जारी ब्‍योरे के अनुसार, विभाग को बीते 10 साल में कबाड़ से 35,073 करोड़ रुपये की आमदनी हुई है।

रेल मंत्रालय ने बीते 10 साल में बेचे गए स्क्रैप को लेकर जो ब्‍योरा जारी किया है, उससे पता चलता है कि वर्ष 2009-10 से वर्ष 2018-19 की अवधि के बीच दूसरे तरह के स्क्रैप बेचकर विभाग ने 35,073 करोड़ रुपये कमाए। इसमें कोच, वैगन्स और पटरी के कबाड़ शामिल हैं।

आरटीआई के तहत रेलवे बोर्ड के ब्‍योरे में बताया गया है कि बीते 10 साल में सबसे ज्यादा स्क्रैप 4,409 करोड़ रुपये का वर्ष 2011-12 में बेचा गया, जबकि सबसे कम स्क्रैप से आमदनी वर्ष 2016-17 में 2,718 करोड़ रुपये हुई।

रेलवे बोर्ड के मुताबिक, बेचे गए कबाड़ में सबसे बड़ी हिस्सेदारी रेल पटरियों की है। 2009-10 से 2013-14 के बीच 6,885 करोड़ रुपये के स्क्रैप बेचे गए, वहीं वर्ष 2015-16 से 2018-19 की अवधि के बीच 5,053 करोड़ रुपये के स्क्रैप बेचे गए। कुल मिलाकर 10 साल में रेल पटरियों का स्क्रैप बेचने से 11,938 करोड़ रुपये की आमदनी हुई।

%d bloggers like this: