साकारात्मक सोच अतिआवश्यक है आपके बेहतर भविष्य के लिए।

Spread the love

दहशते चालान कुछ इस कदर बढ़ गयी है गालिबकि बैठते ही कम्प्यूटर पर पहले सीट बेल्ट ढूंढते हैं

मुहब्बत का इशारा है दिल में दर्द का होना,
कहीं गहरा है बहुत दर्द, आहे-सर्द का होना.

दिखाता तूफां के आसार अब्र स्याह होकर,
फ़िज़ा में ऐसे बारहा गुबारे-गर्द का होना।

कोई न कोई हादसा तो होना है लाज़िम,
यूं ही बेजां नहीं है फलके-जर्द का होना।

मिटा करके ही छोड़ेगा जहां को एक दिन,
ये जारी इंसां-ओ-क़ुदरते-नबर्द का होना।

साजिशें हो रहीं है कारगर जिस तरफ देखो,
नहीं कोई रूबरू-हक़, हरकते-मर्द का होना।

अँधेरा ही अँधेरा है चमन बीरान हो चला,
दहशते-मर्ग से सुर्ख-रंग-गुले-जर्द का होना।

आलमे बद-हबासी उठ रही जब भी नज़र.
है बे यकीन निहां सेहरा में गर्द का होना।

अजब सा हो गया मंजर हयात का अपनी,
जिस्मो-दिल ही नहीं रूह में दर्द का होना।

कुछ तो हलचल हो रही है तेरे भी दिल में,
बेसबब नहीं हूँ , ये आहे-सर्द का होना।

आहे-सर्द = ठंडी आह!, अब्र स्याह = बादल काला, गुबारे-गर्द = धूल का चक्रबात, फलके-जर्द = आकाश पीला इंसां-ओ-क़ुदरते-नबर्द = मनुष्य और प्रकृति का युद्ध,
रूबरू-हक़ = सच्चाई के सामने, हरकते-मर्द = आदमी के कृत्य, दहशते-मर्ग = मृत्यु का भय, सुर्ख-रंग-गुले-जर्द = फूल का लाल रंग पीला/फीका होना, निहां = छुपा हुआ, सेहरा = रेगिस्तान

एक नर्स लंदन में ऑपरेशन से दो घंटे पहले मरीज़ के कमरे में घुसकर कमरे में रखे गुलदस्ते को संवारने और ठीक करने लगी।

ऐसे ही जब वो अपने पूरे लगन के साथ काम में लगी थी, तभी अचानक मरीज़ से पूछा “सर आपका ऑपरेशन कौन सा डॉक्टर कर रहा है?”

नर्स को देखे बिना मरीज़ ने अनमने से लहजे में कहा “डॉ. जबसन।”

नर्स ने डॉक्टर का नाम सुना और आश्चर्य से अपना काम छोड़ते हुए मरीज़ के पास पहुँची और पूछा “सर, क्या डॉ. जबसन ने वास्तव में आपके ऑपरेशन को स्वीकार किया हैं?

मरीज़ ने कहा “हाँ, मेरा ऑपरेशन वही कर रहे है।”

नर्स ने कहा “बड़ी अजीब बात है, विश्वास नहीं होता”

परेशान होते हुए मरीज़ ने पूछा “लेकिन इसमें ऐसी क्या अजीब बात है?”

नर्स ने कहा “वास्तव में इस डॉक्टर ने अब तक हजारों ऑपरेशन किए हैं उसके ऑपरेशन में सफलता का अनुपात 100 प्रतिशत है । इनकी तीव्र व्यस्तता की वजह से इन्हें समय निकालना बहुत मुश्किल होता है। मैं हैरान हूँ आपका ऑपरेशन करने के लिए उन्हें फुर्सत कैसे मिली?

मरीज़ ने नर्स से कहा “ये मेरी अच्छी किस्मत है कि डॉ जबसन को फुरसत मिली और वह मेरा ऑपरेशन कर रहे हैं ।

नर्स ने एक बार बार कहा “यकीन मानिए, मेरा हैरत अभी भी बरकरार है कि दुनिया का सबसे अच्छा डॉक्टर आपका ऑपरेशन कर रहा है!!”

इस बातचीत के बाद मरीज को ऑपरेशन थिएटर में पहुंचा दिया गया, मरीज़ का सफल ऑपरेशन हुआ और अब मरीज़ हँस कर अपनी जिंदगी जी रहा है।

मरीज़ के कमरे में आई महिला कोई साधारण नर्स नहीं थी, बल्कि उसी अस्पताल की मनोवैज्ञानिक महिला डॉक्टर थी, जिसका काम मरीजों को मानसिक और मनोवैज्ञानिक रूप से संचालित करना था, जिसके कारण उसे संतुष्ट करना था जिस पर मरीज़ शक भी नहीं कर सकता था। और इस बार इस महिला डॉक्टर ने अपना काम मरीज़ के कमरे में गुलदस्ता सजाते हुवे कर दिया था और बहुत खूबसूरती से मरीज़ के दिल और दिमाग में बिठा दिया था कि जो डॉक्टर इसका ऑपरेशन करेगा वो दुनिया का मशहूर और सबसे सफल डॉक्टर है जिसका हर ऑपरेशन सफल ऑपरेशन है और इन सब के साथ मरीज़ खुद सकारात्मक तरीके से सुधार की तरफ लौट आया।

आपके भी दिन अवश्य लौटेंगे, थोड़ा हिम्मत रखिये। मत भागिये मौत के सौदागर और उनके दुकान की तरफ, क्योंकि जो मौत बेचते है वह आपको मौत ही देंगे।

इसलिए कहता हूँ तुम जाना छोड़ दो उस गली में जहाँ विनाश की तस्वीरे भी हसीन लगती हो।

लौट आओं ऐ जिंदगी, हम अपने हाथों से सवारेंगे तुझे।

नमस्कार,

मै हूँ रमन कुमार, आप देख रहे थे वतन की आवाज। अगर ये विडियों आपको अच्छा लगा हो तो ज्यादा से ज्यादा लोगों तक फारवर्ड कीजिए और मेरा हौसला बढाईये। लाईक सब्सक्राईव जरूर कर लिजिए।

%d bloggers like this: