यहाँ लोग रहते है जमीन के अंदर

Spread the love

दिल्ली के कनाॅट प्लेस इलाके में स्थित पालिका बाजार के बारे में आपने जरूर सुना होगा। कई लोग ऐसे भी होंगे जो इस बाजर से खरीदारी /शापिंग भी किया हो। पालिका बाज पूरी तरह से अंडर ग्राउण्ड है। यानि जमीन के अंदर है। खैर यह तो एक बाजार है। लेकिन मै आपको आज जो जानकारी देने जा रहा हूँ वह बेहद खास है।

आपको जानकार हैरानी होगी की आज भी इस धरती पर ऐसा गाँव है जो जमीन के नीचे ही बसा हुआ है। सारे लोग जमीन के नीचे ही रहते है।

नमस्कार मै हूँ रमन कुमार और आप देख रहे है वतन की आवाज।

हम आपको दक्षिणी आस्ट्रेलिया ले चलते है। जहाँ पर आपको बतायेंगे की किस प्रकार से मनुष्य आज भी आदि मानव के जमाने और उसके सभ्यता के साथ रह रहे है। एक ऐसा अनोखा गाँव जो आज भी जमीन के नीचे बसा हुआ है। अब आप सोच रहे है कि यह गाँव अवश्य ही भारत में होगा। मै आपको यहाँ बता दू कि यह गाँव भारत में नही बल्कि आस्ट्रेलिया में है और उसका नाम है ‘कुबड़ पेड़ी’ है।

इस गाँव की सबसे बड़ी खासियत है कि यह पूरा गाँव और यहाँ से सभी लोग जमीन के अंदर बने घरो में रहते है। जमीन के अंदर बने घर देखने में भले ही बाहर से साधारण दिखते हो लेकिन इसके अंदर सुख सुविधा के सारे इंतजाम होते है।

दरअसल, कुबर पेड़ी इलाके में ओपल की कई खदाने है। बता दें कि ओपल की खाली पड़े खादानों में ही लोग रहते है। अब आप सोच रहे होंगे कि ओपल क्या होता है ? तो आपको बता दूँ कि ओपल एक दूधिया रंग का पत्थर कीमती पत्थर होता है। कुबर पेड़ी को दुनिया की ओपल राजधानी के तौर पर भी जाना जाता है। क्योंकि इस इलाके में दुनिया की सबसे बड़ी और अधिक खादाने है।

मिडिया रिपोर्टस के मुताबिक कूबर पैड़ में माइनिंग का काम साल 1915 से शुरु हुआ था। दरअसल यह एक रेगिस्तान इलाका है। इस वजह से यहाँ पर गर्मियों में तापमान बहुत ज्यादा और सर्दियों में ज्यादा सर्दि पड़ते है। ऐसे में यहाँ रहने वाले लोगों को बहुत तकलीफों का सामना करना पड़ता था। इस समस्या से निजात पाने के लिए लोग माइनिंग के बाद खाली बची खादानों में रहने के लिए चले गए। बता दे कि कूबर के इस अंडरग्राउण्ड घरों में गर्मियों मे ना ही एसी की जरूरत पड़ती है और न ही सर्दियों में हीटर की ।

आज के समय में यहाँ पर लगभग 1500 से ज्यादा ऐसे घर है, जो जमीन के अंदर है और लोग यही पर रहते है। जमीन के नीचे बने ये घर हर तरह की सुख-सुविधाओं से परिपूर्ण है। आपको बता दे कि इस इलाके में कई हालीबुड की फिल्मों की शुटिंग भी हो चुकी है। साल 2000 में आई फिल्म ‘पिच ब्लैक’ की शुटिंग के बाद प्रोडक्शन ने फिल्म में इस्तेमाल किया गया स्पेशिस यही छोड़ दिया था। जो अब पर्यटकों के लिए पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र बन चुका है।

ये विडियों आपको कैसा लगा यह जरूर बताईयेगा। अगर अगर लगा हो तो लाईक एंड सब्सक्राईव कीजिए और शेयर कीजिए। हमे कमेंट कीजिए। मुझे दीजिए विदा अगल विडियों के साथ फिर मिलूंगा। नमस्कार , जय श्री राम ।

%d bloggers like this: