100 मरीजों के लिए बचे थे सिर्फ 45 मिनट Sir Ganga Ram Hospital को ऐन मौके पर पहुँचाया 5 टन ऑक्‍सीजन

Spread the love

सर गंगाराम अस्पताल ने एक जीवन रक्षा संदेश (एसओएस) भेजते हुए शनिवार रात कहा था कि उसके पास केवल करीब 45 मिनट तक लिए ऑक्सीजन बची है और 100 से अधिक मरीजों का जीवन जोखिम में है

दिल्‍ली के सर गंगाराम अस्‍पताल (Sir Ganga Ram Hospital) में शनिवार को रात ऑक्‍सीजन पर करीब 100 मरीज थे और इसकी आपूर्ति महज 45 मिनट के लिए बची थी. इस स्थिति को देखते हुए सर गंगाराम अस्पताल (एसजीआरएच) ने जीवन रक्षा संदेश (एसओएस) भेजते हुए शनिवार रात कहा कि उसके पास केवल करीब 45 मिनट तक आपूर्ति के लिए ऑक्सीजन बची है और 100 से अधिक मरीजों का जीवन जोखिम में है. इस संदेश के मिलने के बाद अस्‍पताल को रात में ही 5 टन ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध कराई गई है.

सर गंगा राम अस्पताल के प्रवक्‍ता ने कहा, ”सर गंगाराम अस्पताल को सुबह चार बजकर 15 मिनट पर 5 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली, जिससे 11-12 घंटों तक काम चलना चाहिए. लंबे वक्त के बाद ऑक्सीजन पूरी क्षमता के साथ दी जा रही है.

बता दें कि बीते शुक्रवार यानि 23 अप्रैल को सर गंगाराम अस्‍पताल ने बताया था कि उसके 25 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई है. कोरोना वायरस संक्रमण की सुनामी से जूझ रहे देश भर के अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन (oxygen) की कमी का सामना करना पड़ा रहा है और जीवन रक्षक वायु ऑक्‍सीजन की कमी के चलते अभी तक कई अस्‍पतालों में बहुत से मरीजों की सांसें थम चुकी हैं.

शनिवार की रात को अस्पताल ने कहा कि उसने पिछले 24 घंटे में कम से कम चार एसओएस भेजे हैं और वह संकट की स्थिति में है. अस्पताल ने कहा कि उसके पास केवल करीब 500 घन मीटर ऑक्सीजन बची है, जो करीब 45 से 60 मिनट ही चलेगी और 100 से अधिक मरीजों का जीवन खतरे में है. उसने बताया कि अस्पताल में रोजाना 10,000 घट मीटर तरल ऑक्सीजन की खपत होती है. गंगाराम अस्पताल को पिछले कुछ दिन से टैंकरों के जरिए ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है और वह स्वयं के ऑक्सीजन संयंत्र लगाने के भी प्रयास कर रहा है. इससे एक दिन पहले अस्पताल ने बताया था कि उसके 25 कोविड-19 मरीजों की मौत हो गई. सूत्रों ने बताया कि अस्पताल में इन मरीजों की मौत का कारण कम दबाव की ऑक्सीजन हो सकती है.

%d bloggers like this: