ये एक चीज कंट्रोल करेगी ब्लड शुगर लेवल

Spread the love

डायबिटीज (Diabetes) लाइफस्टाइल से होने वाले रोगों में से एक है. मधुमेह या डायबिटीज (Diabetes) में ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) बढ़ जाता है. डायबिटीज दो तरह की होती है. टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 Diabetes) और टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes).


डायबिटीज खराब लाइफस्टाइल की वजह से होने वाले रोगों में से एक है. मधुमेह (Diabetes) में ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) अनकंट्रोल हो जाता है, जिसे कंट्रोल करना काफी मुश्किल होता है. ऐसे में कौन से उपाय आपको डाइबिटीज से बचा सकते हैं. कई घरेलू नुस्खे (Home Remedies) भी हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए लाभकारी माने जाते हैं लेकिन ज्यादा नुस्खों में इस्तेमाल होने वाली एक चीज डाइबिटीज के लिए रामबाण हो सकती है. डायबिटीज दो तरह की होती है. टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 Diabetes) और टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes). डायबिटीज के लक्षण (Symptoms Of Diabetes) कई बार पता भी नहीं चलते. इसलिए ही इसे साइलेंट किलर कहा जाता है. डायबिटीज होने पर कई अंगों के खराब होने का खतरा बढ़ जाता है. लेकिन यह अच्छी बात है कि आप अपने आहार में बदलाव कर इसे कंट्रोल कर सकते हैं.

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए क्या खाएं और क्या नहीं खाएं यह सवाल अक्सर पूछा जाता है. लेकिन आज हम आपको बताते हैं एक ऐसी चीज के बारे में जिसे आहार में शामिल कर आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं-


इस चीज का नाम है हल्दी. जी हां, वो कहते हैं न कि हल्दी हर रोग का इलाज होती है… शरीर में अंधरूनी चोट लगने पर जब मां हल्दी डालकर दूध पीने के लिए कहती है, तो बच्चे इसको पीने से दूर भागते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि हल्दी से टाइप-2 डायबिटीज़ तक ठीक की जा सकती है. डायबिटीज में हल्दी के सेवन से शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है. यह कई शोध साबित कर चुके हैं..


खरोंच के निशान, मोच, ज़ख्म और सूजन को ठीक करने के लिए हल्दी को सदियों से इस्तेमाल में लाया जा रहा है. भारत में लोगों द्वारा लिए जा रहे फास्ट फूड की वजह से करक्यूमिन (हल्दी) को लेने की मात्रा कम हो गई है, जिससे टाइप-2 डायबिटीज़ की समस्या बढ़ती जा रही है. डायबिटीज के रोगी को हल्दी खाने के फायदे (Turmeric Good for Diabetes) होते है. हल्दी में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं. इसके साथ ही साथ इसमें एंटीइंफ्लामेटरी गुण भी होते हैं, जो शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाने में मददगार हैं. ऐसे में जब आपके शरीर में इंसुलिन अधिक बनेगा तो ब्लड शुगर लेवल कम होने लगेगा.


(अस्वीकरण: यहां दी गई सामग्री या सलाह केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

%d bloggers like this: