नोएडा सेक्टर 18 : उद्योग व्यापार मंडल और प्राधिकरण के अधिकारियों के बीच बैठक

Spread the love

नोएडा सेक्टर 18 स्मार्ट सिटी के स्मार्ट सेक्टर है और यह नोएडा के प्रमुख व्यवसायिक सेक्टर भी है। जिसे नोएडा प्राधिकरण के द्वारा नो व्हीकल जोन और नो वेंडिंग जोन भी घोषित किया गया है। जिसके कारण व्यापारियों में काफी रोष है। बता दे कि कुछ दिन पहले भी इस प्रकार के बैठक बीजेपी जिलाध्यक्ष मनोज गुप्ता और सांसद प्रतिनिधि संजय वाली के साथ हुआ था। लेकिन इसका व्यापारियों को कोई भी फायदा नहीं दिखा है और सब कुछ वैसा ही चल रहा है जैसा कि पहले। बता दे कि इसी बैठक को कवर करने गये पत्रकार के गाड़ी को भी उठा लिया गया था।

इसी को लेकर आज एक बार फिर सेक्टर 18 में उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के पदाधिकारी और नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ हुई । इस बैठक में भारी संख्या में सेक्टर 18 के व्यापारियों उपस्थिति दर्ज करायी है। बैठक में व्यापारियों का नेतृत्व सुनिल गुप्ता ने किया। बैठक में प्राधिकरण के तरफ से वरिष्ठ परियोजना अभियंता श्री राहुल शर्मा व जुनियर इंजिनियर श्री यादव मौजूद थे।

श्री गुप्ता ने प्राधिकरण के द्वारा संचालित किए जा रहे क्रेन व्यवस्था , पार्किंग की व्यवस्था एवं प्राधिकरण द्वारा निर्मित कीयोस्क के ऊपर चर्चा हुई। श्री सुनील गुप्ता ने प्राधिकरण के अधिकारियों के समक्ष क्रेन एवं सड़कों पर संचालित गुंडा व्यवस्था पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई तथा उन्होंने मांग की इस व्यवस्था को तत्कालीन प्रभाव से निरस्त किया जाए। इसके अधिकारियों के समक्ष कई प्रमाण एवं साक्ष्य उपलब्ध कराए इस समस्या पर बोलते हुए प्राधिकरण अधिकारी राहुल शर्मा ने कहा यह व्यवस्था सेक्टर 18 में यातायात को सुचारू रूप से करने के लिए लागू की गई थी यदि उसको समाप्त कर दिया जाता है तो यातायात की व्यवस्था पुनः अव्यवस्थित हो जाएगी ।

इस समस्या का समाधान करने के लिए उन्होंने व्यापारियों के सुझाव मांगे, श्री राजीव गोयल ने सुझाव दिया सर्वप्रथम मार्केट में जहां-जहां पार्किंग की व्यवस्था है उन्हें पीली रेखाओं के द्वारा चिन्हित किया जाए, वहीं श्री अमित अग्रवाल ने सुझाव दिया कि प्राधिकरण द्वारा निर्मित पार्किंग को दर्शाने के लिए दिशा सूचक मार्केट में जगह-जगह लगाए जाएं । श्री सुनील गुप्ता ने प्रस्ताव किया कि क्रेन व्यवस्था एवं इससे संबंधित सभी गतिविधियों को कुछ समय के लिए निरस्त किया जाए तथा इससे उत्पन्न स्थिति का कुछ समय बाद आकलन किया जाए।

क्योंशक के ऊपर श्री सुनील गुप्ता ने प्राधिकरण से पूछा प्राधिकरण कि क्योंशक बनाने के पीछे क्या मंशा है तथा उन्होंने यह भी कहा कि सेक्टर अट्ठारह एक सुव्यवस्थित मार्केट है और यहां व्यापारी सरकार एवं प्राधिकरण को विभिन्न करो के माध्यम से जिसमें लीज रेंट शुल्क भी देता है , यदि मार्केट में क्योशक और ठेला पटरी का साम्राज्य हो जाएगा तो इससे मार्केट की सुंदरता, स्वच्छता और मार्केट अव्यवस्थित हो जाएगी जो कि सरकार और प्राधिकरण दोनों के ही मापदंड के विपरीत साबित होगी ।

उन्होंने सुझाव दिया सर्व प्रथम बाजार को ठेला पटरी से मुक्त किया जाए और क्योशक की संभावना व्यापारियों के साथ बैठकर सुनिश्चित की जाए, जिससे कि सभी वर्गों का कल्याण हो । इन सुझाव पर प्राधिकरण अधिकारी राहुल शर्मा ने सकारात्मक रुख अपनाते हुए भरोसा दिलाया कि यह व्यवस्था प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी जी को व्यापारियों के सुझावों से अवगत कराने के उपरांत ही अमल में की जाएंगी । इस मौके पर व्यापारीगण सी के शर्मा जी ,अमित ऋषि जी, कमलेश शाह जी, नरेश चं द्र जी आदि भारी संख्या में मौजूद व्यापारी मौजूद रहे ।

बता दे कि नोएडा सेक्टर 18 सावित्री मार्केट में नाॅन वेंडिंग जोन होने के बाद भी ठेली पटरी का राज चल रहा है। जबकि एन ब्लाॅक में वेंडिंग जाेन बनाया गया है लेकिन आज तक उसको व्यवस्थित नही किया गया है। व्यापारियों के लिए एक समस्या यह भी है कि अगर गाड़ी टोयिंग होने के डर से ग्राहक मार्केट में नही जायेंगे तो दुकान चलेगा कैसे ? क्या कोई भी व्यक्ति 10 मिनट के काम के लिए 100 रूपये की पर्ची कटवाना पसंद करेंगे ? हालाँकि अगर सावित्री मार्केट में लगे ठेली पटरी वालों के पास ही लोग गाड़ी खड़ी करते है और चाउमीन मोमोस खाते है लेकिन उनका गाड़ी नही उठता है लेकिन अगर कोई दुकान में गया और समान के भाव पूछा तब तक उनके गाड़ी को उठा लिया जाता है।

%d bloggers like this: