नोएडा शहर की खबर, लाॅक डाउन की असर

Spread the love

नमस्कार मै हूँ रमन कुमार

आपने प्रदीप कुमार की वो गाना तो सुना ही होगा। गाने का बोल कुछ ऐसा ही था ” मैने जग की अजब तस्वीर देखी, कोई हँसता है कोई रोता है।

प्रदीप जी के दुसरा गाना भी बहुत मशहूर हुआ था। जो कुछ इस तरह से था।

देख तेरे संसार की हालात क्या हो गये भगवान कितना बदल गया इंसान।

सूरज न बदला चाँद न बदला बदल गया रे इंसान, कितना बदल गया इंसान।

आजकल जब कही लंबी लाईन लगी दिखाई देती है तो लोग पहले तो यही सोचते ही कि जरूर ये लाईन गरीबों की है। लेकिन कई बार ये बात गलत भी निकल जाते है ।

ऐसा ही कुछ नजारा आज नोएडा सेक्टर 41 अक्का पूर गाँव मे देखने को मिला। दूर से लाईन काफी लंबी थी मुझे भी ऐसा लगा कि जरूर यहाँ पर खाना बट रहा होगा।

लेकिन जब पास से जाकर देखा तो नजारा कुछ और ही था। कल तक रोजी रोटी और भूख की गाना गाने वाले और इस सरकारी ठेके पर लाईन मे लगे हुए थे। यह देख किसी का भी भ्रम टुट जायेंगे की भारत मे किसी भी प्रकार के गरीबी आयी है अर्थ व्यवस्था की हालत खराब हुई है।

लेकिन कुछ आगे बढते ही आज भी सरकारी खाना लेने के लिए लंबी लाई लगी हुई औरते और बच्चे इस बात को भी साबित करने के लिए काफी था की भारत मे बहुत कुछ बदल चुका है। सच क्या है यह तो भगवान ही जाने , लेकिन दोनों तरफ एक ही वर्ग के लोग ही दिखाई दे रहे थे।

कल तक तो यह कहा जा रहा था कि गरीब लोगों के पास पैसा कहाँ है यह लोग तो अमीरों के लिए लाईन मे लगे है ।लेकिन क्या आपको इस विडियों को देखकर ऐसा लगता है। कल तक सरकार को कोसने वाली जनता जो की भूखे मर रही थी। शराब के दुकान खुलने के बाद अचानक अमीर हो गयी। यह भी एक चमत्कार ही है कि कल तक रोजी रोटी को रोने वाली जनता आज इंगलिश कि दारू पी रही है।

नोएडा मे अभी भी लाँक डाउन हेै और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सलाह दिया गया है। चार पहिया वाहन मे 2 सवारी और तीन पहिया वाहन मे भी 2 सवारी के साथ सड़क पर गाड़ी चलाने की छुट मिली हुई है।

दो पहिया वाहन पर आप सिर्फ एक ही सवारी जा सकते है। दो भी जा सकते है अगर पीछे बैठी हुई सवारी लेडिज हो तो। दो पहिया वाहन पर लिफ्ट लेने वाली महिलाओं की संख्या अचानक ही बढ गयी है । पुलिस जगह जगह बैरिंकेडिंग करके जाँच करने की खानापूर्ति करने मे लगी है। आप अगर शरीफ है तो 2 पहिया वाहन पर अकेले ही जा सकते है, जबकि अगर आप निकलिये तो आपको दो पहिया वाहन पर दो नही तीन सवारी भी सवारी करते हुए मिल जायेंगे।

प्रशासन ने तीन पहिया वाहन मे दो सवारी और चार पहिया वाहन मे भी दो सवारी को लेकर चलने की इजाजत दी है। जबकि इन लोगों के पास रजिस्ट्रेशन नंबर , ड्राईविंग लाईसेंस भी होते है। लेकिन E-Riksha पर 5 से 6 सवारी लद के जाते हुए देखी जा रही है। ई-रिक्शा में 4 सवारी के बैठने की क्षमता है लेकिन इसमे पाँच सवारी पीछे और एक सवारी ड्राइवर के बगल वाले सीट पर बैठकर सवारी करते है।

सोशल डिस्टेंसिंग पर किया कारवाई कि मांग तो…..

आजकल समाजिक संगठन लगातार लोगों को सेवा कर रहे है। मदद करने की अपनी-अपनी धारणा हो सकते है। किसी के लिए गरीब मजदूर है जो किसी के लिए जरूरतमंद। नोएडा सेक्टर 16 के जे. जे कालोनी मे समाज सेवी के द्वारा बांटे गये भोजन के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग नही होने के कारण जे.जे. कालोनी के प्रधान ने आपति जताते हुए प्रशासन से लाँक डाउन न पालने करने वालों पर कड़ी कारवाई कि मांग किया। समाज सेवियों से भी सोशल डिस्टेंसिग मेंटेन करने की मांग की। लेकिन ये क्या प्रधान श्री ब्रह्मपाल सिंह ने जिसका विरोध किया उसमे वह खुद भी शामिल थे। आपको यह सुनकर और देखकर हैरानी होना ठीक है लेकिन आइये आगे बताते है कि माजरा क्या है ?

असल मे नोएडा सेक्टर 16 जे. जे कालोनी मे समाजसेवी व भारतीय जनता पार्टी के महिला कार्यकर्ता रितु सिंहा व सीटू के जिलाध्यक्ष गंगेश्वर दत शर्मा जी ने गरीबो को भोजन बांटते हुए सोशल डिस्टेंसिग का ख्याल रखना भूल गये , जैसा इस विडियों मे देखा जा रहा है।

इसकी जानकारी सीटू के अध्यक्ष गंगेश्वर दत शर्मा ने ह्वाटसप के माध्यम से प्रेस नोट दिया जिसमे कुछ ऐसा लिखा था।

दीदी की रसोई से नोएडा सेक्टर 16 व 14ए झुग्गी बस्ती में कई सौ गरीब लोगों के बीच बांटें गए खाने के पैकेट- गंगेश्वर दत्त शर्मा

नोएडा, 20 मई 2020 को दीदी की रसोई वरिष्ठ समाजसेवी का रितू सिन्हा द्वारा श्रमिक नेता गंगेश्वर दत्त शर्मा के सहयोग से शाम के वक्त सेक्टर 16 नोएडा झुग्गी बस्ती डिपो के पास व सेक्टर 14 ए झुग्गी बस्ती शनि मंदिर के पास में 400 खाने के पैकेट जरूरतमंद लोगों में वितरण किया।
खाना वितरण में मजदूर नेता राजकरण सिंह, सेक्टर 16 झुग्गी बस्ती की प्रधान निशा सिंह राघव और सामिया खातून, अजमेरी खातून, गुड़िया देवी, परवीना, माहेजबी खातून, सुनीता, कमल देवी, उषा देवी, विशाल यादव आदि ने सहयोग किया।
गौरतलब है की लॉक डाउन से प्रभावित गरीब जरूरतमंद लोगों को दीदी की रसोई के माध्यम से हर रोज कई सौ लोगों को भोजन कराया जा रहा है। और यह क्रम निरंतर जारी है।

इस पर जे.जे कालोनी सेक्टर 16 के प्रधान श्री ब्रह्मपाल सिंह ने आपति जताई और सोशल डिस्टेंस मैंटेन नही करने पर कारवाई की मांग की।

लेकिन इस आपति को जब मिडिया मे उठाया गया तो, प्रेस नोट बदल दिया गया और आपति जताने वाले प्रधान को ही साझीदार बना दिया गया है। हिंट मे छपे इस खबर को पढ़िये


मेरा मानना है कि हिंट मे छपे खबर के लिए भी प्रेस नोट दिया गया होगा। लेकिन दोनो प्रेस नोट मे इतना फर्क क्यो है।

1)पहले मे रितु सिंहा सिर्फ एक सामाजिक कार्यकर्ता है,

2) दूसरे मे भारतीय जनता पार्टी की महिला मोर्चा की जिला उपाध्यक्ष है।

3) पहले मे कही भी प्रधान ब्रह्मपाल सिंह का नाम कही नही लिखे हुए है ।

4) दूसरे मे ब्रह्मपाल सिंह का नाम लिखा गया है

5)पहले प्रेस नोट मे और भी कई लोगों के नाम शामिल है । राजकरण सिंह, सेक्टर 16 झुग्गी बस्ती की प्रधान निशा सिंह राघव और सामिया खातून, अजमेरी खातून, गुड़िया देवी, परवीना, माहेजबी खातून, सुनीता, कमल देवी, उषा देवी, विशाल यादव आदि ने सहयोग किया।

6) लेकिन हिंट मे छपे खबरों मे इन सभी को गायब करके इनके बदले मे प्रधान ब्रह्मपाल सिंह का नाम जोड़ दिया गया है।

%d bloggers like this: