नोएडा प्राधिकरण बिना नोटिस, पूर्व वायू सेना अधिकारी के आवास पर किया तोड़फोड़

Spread the love

नोएडा सेक्टर 25 स्थित बने फ्लैट में नोएडा प्राधिकरण ने किया तोड़फोड़। कार्यवाही करने से पहले कोई भी नोटिस नही दिया गया। श्री रमेश चंद सिंह जो कि पूर्व वायू सेना अधिकारी तथा समाजसेवी है और नोएडा के इसी फ्लैट में पिछले 30 साल से रहते आ रहे है। जिस फैंसिंग को तोड़ा गया है वह सुरक्षा के मध्यनजर बनाया गया था। सोसायटी के बांकि फ्लैटों में भी इस प्रकार के अतिक्रमण किये गये है लेकिन उस पर किसी भी प्रकार के कार्यवाही नही की गयी है।

मामला नोएडा सेक्टर 25 स्थित बने फ्लैट N376 जलवायू विहार का है। सेक्टर के इसी फ्लैट में वायू सेना के पूर्व अधिकारी रमेश चंद सिंह रहते है। उनका फ्लैट ग्राउण्ड प्लोर की है, और फ्लैट के बाहर सुरक्षा के मध्यनजर फैन्सिंग किया गया था जिसे प्राधिकरण के जेई शेखर चौहान तथा उनके साथ आये कुछ लोगों ने तो़ड़ दिया। जिस पर रमेश चंद जो की एक वरिष्ठ नागरिक है और समाज सेवा में भी तत्पर रहते है। कोरोना के समय में उनके योगदान को काफी सराहा गया था।

इस तोड़फोड़ पर श्री सिंह नें कड़ा एतराज किया है। उनका कहना है कि आखिर कार्यवाही करने से पहले नोटिस क्यो नही दिया गया। दूसरी बात यह फैन्सिंग एक सुरक्षा के मध्यनजर किया गया था और सोसायटी से बहुत सारे फ्लैटों में किये गये है। आखिर उन पर क्यों कार्यवाही नही किया गया। इसी सेक्टर में अवैध तरीके से कई कमरे बनाये गये है तथा आम इस्तेमाल के जमीन पर भी कब्जा किया गया है लेकिन इन्होंने सिर्फ हमें निशाना क्यों बनाया।

श्री सिंह नें प्राधिकरण को पत्र लिखकर अपनी आपति दर्ज कराया है, और जबाब मांगा है कि आखिर किसके आदेश से यह तोड़फोड़ किया गया है। जब हमने जेई को कहा कि आदेश दिखाओ तो आदेश नही दिखाया। क्या यह तोड़फोड़ सोसायटी के ही किसी के कहने पर किया गया है ? उन्होंने कहा कि मै इसके खिलाफ एफआईआई दर्ज कराने जा रहा हूँ। मै 68 साल के वरिष्ठ नागरिक हूँ, वायू सेना में रहकर समाज के सेवा किया है लेकिन मेंरे साथ किस प्रकार के दुर्व्यवहार किया जा रहा है।

नोएडा के वरिष्ठ नागरिक व अधिवक्ता श्री अनिल के गर्ग ने इस कार्यवाही पर दुख जताया है। उन्होंने कहा है कि नोएडा के कितने सारे फ्लैटों में अतिक्रमण किया गया है। पूरा-पूरा कमरा बनाया हुआ है। सेक्टर 82, सेक्टर12,सेक्टर22 , सेक्टर 99, सेक्टर 25 मे और भी लोगों नें अतिक्रमण किया हुआ है कारवाई तो सब पर होनी चाहिए, सिर्फ रमेश चंद पर क्यों ?

नोटिस चिपकाने के बाद भी अतिक्रमण बरकरार

नोएडा सेक्टर 99 में फ्लैट में अतिक्रमण है जिसके लिए पिछले 8 महीने से नोटिस चिपका हुआ है उस पर क्यों कारवाई नही की गयी है आज तक। अतिक्रमणकर्ता माननीय न्यायालय भी गया और वहाँ भी उसकों कोई राहत नही दिया गया। उसके बाद फ्लैट 42ए के मालिक नें प्राधिकरण में लिखकर दिया है कि हमने अतिक्रमण हटा लिया है। जिस पर प्राधिकरण नें भवन विभाग को जांच करने के लिए सौपा था जिसकी जांच आज तक नही किया गया। संभवत: फ्लैट मालिक नें जो हलफनामा दिया है वो झुठा है इस पर जांच करके कारवाही होनी चाहिए। इसके अलावा एक और अतिक्रमण के शिकायत है । इस अतिक्रमण पर भी जेई चुप है।

सेक्टर 99 में पार्किंग एरिया में अवैध निर्माण की शिकायत

सेक्टर के निवासी डाॅ0 बी पी शर्मा नें प्राधिकरण को ट्ववीटर के माध्यम से शिकायत किया है कि ब्लाॅक 23 फ्लैट 92 ए में ग्राउण्ड फ्लोर पर कामन एरिया में जो पार्किंग का है उस पर अतिक्रमण करके रूम बनाया जा रहा है। उन्होनें लिखा है कि जेई सुभाष जी से शिकायत किया लेकिन कोई कार्यवाही नही किया गया। अब आपसे से उम्मीद है प्राधिकरण के सीओ रितु महेश्वरी को लिखा गया है।

माननीय योगी का फरमान सिर्फ थाने के लिए क्यों ?

माननीय योगी ने हाल ही में एक फरमान दिया है अगर किसी भी थाने से ज्यादा शिकायत आए तो थानेदार पर होगी कारवाई की जायेगी। प्रदेश के मुख्यमंत्री माननयी योगी जी से सवाल पूछना चाहता हू कि क्या नोएडा प्राधिकरण पर भी कोई कार्यवाही होगी या यहाँ सब राम राज्य है ? आखिर प्राधिकरण के लोग किसके इशारे पर काम कर रहे है। पार्किंग माफिया, खनन माफिया, रेहड़ी पटरी माफिया, अतिक्रमण माफिया सब फल फुल रहे है क्योंकि उन्होनें भी अपना चुनाव चिंह बदल लिया है। अब उनका चुनाव चिंह भी फूल है ऐसा ही लगता है। सब कुछ वही है सिर्फ पार्टी बदल लिया है माफियाओं नें। हिंडन में लगातार हो रहे अतिक्रमण के लिए कौन जिम्मेदारी है ? क्या इनके लिए कोई फरमान है।

हम बने तुम बने एक दूजे के लिए

पत्रकार को तो पक्ष हो या विपक्ष मोदी मिडिया गोदी मिडिया बना दिया है। अब वो भी लिखने से डरते है सभा में बुलाकर उसको पीटा जा रहा है सिर्फ सवाल पूछने पर। लेकिन प्रदेश के सरकार चुप है क्योंकि राजनीति में सब एक दूजे के लिए है। हम बने तुम बने एक दूजे के लिए। जिस प्रकार के एक वायू सेना अधिकारी के फैन्सिंग को तोड़ दिया जाता है लेकिन एक ताजमहल जो अतिक्रमण करके बनाया गया है क्योंकि यहाँ पर राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। शिकायत करने वाले को धमकाया जाता है।

नोएडा सेक्टर 59 वेंडिंग जोन में समझौता

Noida Sector 59: Vendor's Agreement regarding Canceled Vending Zone.
Noida Sector 59: Vendor’s Agreement regarding Canceled Vending Zone.

नोएडा सेक्टर 59 वेंडिंग को लेकर समझौता पत्र सामने आया है। जिसमें दो वेंडर नें आपस में समझौता किया है तथा प्राधिकरण को पूराने वेंडिंग में ही व्यवस्थित करने की बात कहा जा रहा है। जबकि प्राधिकरण नें वहां से वेंडिंग जोन को शिफ्ट कर नयी स्थान दे दिया है। माना जाता है पत्र लिखने वाले में एक वेंडर जिसके बारे में शिकायत किया गया और दूसरा शिकायत करने वाला है। शिकायत के बाद प्राधिकरण के सीओं रितु महेश्वरी नें 7 दुकाने केंसिंल किया लेकिन प्राधिकरण के परियोजना अभियंता और जेई रहमों करम पर आज तक गुलजार हो रहा है। क्या आपसी समझौता से सरकारी संपति पर अतिक्रमण किया जा सकता है ?

%d bloggers like this: