मुंबई हादसा: बिल्डिंग? के मलबे से निकाले गए 14 शव⚰, सरकार ने की मुआवजे? की घोषणा

Spread the love

मंगलवार को दक्षिण मुंबई के भीड़-भाड़ वाले डोंगरी इलाके में दशकों पुरानी चार मंजिला इमारत गिरने से कई लोग उसमें दब गए। इस दुर्घटना में चौदह लोग मारे गए हैं और कई और लोगों के फंसे होने की आशंका है। वहीं दो बच्चों सहित कुल नौ लोगों को बचाया गया है। बचावकर्मी अभी भी घटनास्थल से मलबे को हटा रहे हैं। इस बीच राज्य की देवेंद्र फडनवीस सरकार ने मृतकों के परिवार को 5 लाख और घायलों को 50-50 हजार का मुआवजा देने की घोषणा की है।

नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) की तीन टीमों के साथ दक्षिण मुंबई के निवासियों ने रात में पोर्टेबल पावर टूल्स का उपयोग करके टूटे कंक्रीट और ईंटों के ब्लॉक को हटाने का काम किया। हालांकि मंगलवार को भारी मशीनें ढह गई इमारत तक नहीं पहुंच सकीं क्योंकि जहां ये दुर्घटना हुई है उस गली का रास्ता बेहद संकरा था।

अभी भी कुछ लोग मलबे में दबे हुए हैं और मृतकों की संख्‍या बढने की आशंका है। अब इस पूरे मामले में बीएमसी का बयान आया है। बिल्‍डिंग को बीएमसी की तरफ से 2017 में ही खतरनाक घोषित कर दिया गया था। लेकिन इस चेतावनी के बावजूद 100 साल पुरानी इस बिल्डिंग में कई परिवार रह रहे थे। इसी दौरान बीएमसी की एक चिट्ठी सामने आई है जिसमें इस बात का खुलासा हुआ है।

%d bloggers like this: