मायावती के भाई आनंदकुमार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई।

Spread the love

  नई दिल्‍ली: मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई की है. आनंद कुमार और उनकी पत्‍नी की 400 करोड़ रुपये की कीमत की बेनामी सात एकड़ जमीन जब्‍त की है. आनंद कुमार बहुजन समाज पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष हैं. बताया जा रहा है कि ये कमर्शियल प्‍लॉट है. आयकर विभाग के दिल्‍ली स्थित बेनामी प्रतिषेध यूनिट (बीपीयू) ने इस संबंध में 16 जुलाई को आदेश जारी किया. यह आदेश बेनामी संपत्ति ट्रांजैक्‍शन प्रतिषेध एक्‍ट, 1988 के सेक्‍शन 24 (3) के तहत जारी किया गया.

आनंद कुमार के खिलाफ बेनामी संपत्ती की जानकारी मिली थी, जिसके बाद वर्ष 2017 में आयकर विभाग ने उनसे पूछताछ की थी. आयकर विभाग ने गुरुवार को बेनामी संपत्ति के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए नोएडा में 400 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है. बताया जा रहा है कि यह संपत्ति बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार और उनकी पत्नी की है. आयकर विभाग ने नोएडा में 28 हजार वर्ग मीटर की जमीन भी सील की है, जिसकी सरकारी कीमत 400 करोड़ रुपये आंकी गई है. लेकिन, अगर मार्केट प्राइस की बात करें तो इसकी कीमत कई गुना ज्‍यादा होने की संभावना है. गौरतलब है कि आनंद कुमार के खिलाफ बेनामी संपत्ति की जानकारी मिली थी, जिसके बाद 2017 में आयकर विभाग ने उनसे पूछताछ की थी. इनकम टैक्स विभाग के मुताबिक आनंद कुमार ने दिल्ली के व्यवसायी एसके जैन के सहयोग से कई हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति जुटाई थी. इस मामले में एसके जैन को बोगस कंपनी मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया था. एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2007 से 2012 के बीच आनंद कुमार की नेटवर्थ 7.5 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,316 करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी. आनंद कुमार पर आरोप लगा है कि उन्होंने बोगस कंपनियां बनाकर कई हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति बनाई. यह भी आरोप है कि उन्होंने नोटबंदी के दौरान इन्हीं फर्जी कंपनियों की सहायता से करोड़ों रुपए बदलवाए थे. अब आने वाले दिनों में बसपा के उपाध्यक्ष आनंद कुमार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, क्योंकि इनकम टैक्स विभाग द्वारा की गई इस कार्रवाई के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी कार्रवाई के तैयारी में हैं. इस मामले में ईडी मनी लांड्रिंग मामले में केस दर्ज किया था. अब वह इसमें तेजी लाने की तैयारी कर रही है, ऐसे में आनंद कुमार पर की गई इस कार्रवाई की आंच बसपा सुप्रीमो मायावती तक भी पहुंच सकती है. खासकर विधानसभा उपचुनाव और वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले मायावती की मुश्किल और बढ़ सकती है.

%d bloggers like this: