google-site-verification: google6ec8a210681647ce.html

सरकारी शराब दुकान के समीप आबकारी विभाग के संरक्षण में संचालित चखना दुकानों में बिक रहा शराब

Spread the love

कोरबा(पाली):- प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद सिहांसन पर आए कांग्रेस सरकार द्वारा आबकारी अधिनियम में कई संसोधन किये गए है।जिसमे एक संसोधन यह भी था कि देशी अंग्रेजी शराब दुकान से 100 मीटर की दुरी तक कोई भी चखना दुकान संचालित नही होगी।शासन द्वारा इस बाबत जिम्मेदारी आबकारी विभाग को सौंपी गई।लेकिन कोरबा जिले के आबकारी विभाग द्वारा जेबें भरने के चक्कर में शासन के उक्त आदेश को ठेंगा दिखाते हुए और सारे नियम कायदे को दरकिनार कर चखना दूकान संचालकों से माहवारी तय कर दूकान संचालन की खुली छूट दे दी गई है।और नतीजा यह हुआ है कि शराब दुकान से चंद कदम की दूरी पर दर्जन भर से अधिक चखना दुकानों का संचालन मनमाने हो रहा है और कुछ ठेला संचालक शराब की बिक्री भी करने लगे है।जहाँ शराब दुकान के इर्दगिर्द सुबह 10 बजे से रात 10 बजे तक सजे तमाम चखना दूकानों में बेफिक्र होकर जाम से जाम टकराते महफिल देखा जा सकता है।पाली स्थित शराब दुकान खुलने का समय शासन के नियमानुसार दोपहर 12 बजे से रात 9 बजे तक निर्धारित है।लेकिन इस निर्धारित समय से पहले या बाद में भी शराब प्रेमियों को कुछेक चखना दूकान से देशी-अंग्रेजी शराब उपलब्ध हो जाएगा।बस प्रिंट रेट से 20 या 40 रूपए अधिक देने होंगे।साथ ही बैठाकर पिलाने की सुविधा अलग।इस प्रकार चखना दूकान में ही सारी सुविधा एक साथ मिल जाए तब तो वाह क्या कहने….।मतलब सोने पे सुहागा।सूत्रों बताते हैं कि संबंधित विभाग द्वारा दर्जन भर संचालित चखना ठेला संचालकों से हर माह पहुँचसेवा के तहत किराया के नाम पर हजारो की वसूली की जा रही है।जो वसूली की राशि सरकार के खजाने में नही बल्कि विभागीय अधिकारियों के पाकिट में जा रहा है।ऐसे में चखना दूकान संचालकों की भी बल्ले-बल्ले हो गई है।क्योंकि सैंया भये कोतवाल,तो अब डर काहे का की तर्ज पर चखना दुकान संचालकों को खुली छूट जो मिली है।

%d bloggers like this: