क्या भारत अब भी सेक्यूलर देश है ?

Spread the love

देश की कोने कोने से आने वाली फोटो, विडियों, जिसमें रेप, हत्या बलात्कार देखता हूँ तो मन पूछता है कि क्या देश में अब भी सेक्यूलरिज्म बांकी है। धर्म के नाम पर पालघर में साधुओं की हत्या, राजस्थान में हिन्दुओं के 30 दुकानों में आग लगा देना, बंगाल में चुनावी हिंसा में हिन्दुओ में बहन बेटियों के साथ हो रहे अत्याचार को देखकर मन पूछता है क्या यही है हमारा भारत और इसमें सेक्युलरिज्म अभी भी बांकी है ? हिन्दुओं को गाली देना उसके पूज्य पर हमला करना, देवी देवताओं के साथ अभद्रता करना, किसी खास मजहब वालो की आदत सी बन गयी है। आतंकवाद और उग्रवाद अपने चरम सीमा पर है। हिन्दुओं के मंदिर को तोड़ा जा रहा हो तब दिल पूछता है क्या यही भारत है और इसका सेक्यूलरिज्म है ?

आखिर हमने किया क्या है? यही न कि हमने कभी प्रतिकार नही किया तो यह गलत है हमने लगातार प्रतिकार किया है लेकिन हमारे अपने ही जब गद्दार निकले रहे तो हम क्या करे। इतिहास गवाह है हमने इन मजहबियों का बहुत पीटा है लेकिन जयचंदों नें अन्दर से दरबाजा खोल दिया तो लगता है हमने प्रतिकार नही किया। हर बार भागा जंगे मैदान छोड़कर, 17 बार माफ किया, बस यही गलती किया कि हमने उसे छोड़ दिया उस पर बार नही किया। हमने कभी धोखा नही दिया जिसके बदले में हमे मिला है सेक्यूलरिज्म, आतंकवाद ।

महाराष्ट्रा के इस मंदिर पर एक बार फिर से जिहादियों नें हमला कर दिया है । यह हालात भारत के उस राज्य के है जहाँ के मुख्यमंत्री शिवसेना के उद्धव जी महाराज है। महाराष्ट्र में विठ्ठल रुख्माई मंदिर को भी यह दिन देखना पड़ रहा । आखिर कब तक हिन्दुस्तान में हिंदुओं के साथ ऐसा होता रहेगा। मंदिर पर किया गया हमला आस्था पर किया गया हमला है, सवाल उठता है कि आखिर कब तक ऐसा ही होता रहेगा। कब तक देश के 100 करोड़ हिंदू सरकार के भरोसे बैठा रहेगा। क्या हम हिदू इन जिहादियों का प्रतिकार नही कर सकता है?

%d bloggers like this: