पहल: ड्रोन से बीजों की बारिश, बढ़ेगी अरावली में हरियाली

Spread the love

गुड़गांव:अरावली का एरिया न सिर्फ गुड़गांव बल्कि फरीदाबाद समेत कई जिलों के लिए शुद्ध हवा मुहैया कराता है, लेकिन पिछले काफी समय से इस इलाके में पेड़ों की कटाई जोरों पर है। माफिया रोजाना यहां पेड़ों को काट रहे हैं। ऐसे में अरावली में पेड़-पौधों की संख्या में काफी गिरावट दर्ज की गई है। इतना ही नहीं खनन माफिया और अवैध निर्माण की वजह से भी अरावली को लगातार नुकसान हो रहा है। इस सबके बीच रविवार को अरावली के इलाके में एक संस्था द्वारा बीजों की बारिश की गई। संस्था का दावा है इस मौके पर करीब एक करोड़ बीजों को अरावली क्षेत्र मे बरसाया गया। इस कार्यक्रम की शुरुआत प्रदेश के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने की।

पीपल, शीशम, नीम के डाले बीज रविवार सुबह गांव घाटा के पास भारत विकास परिषद की ओर से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। संस्था का दावा है कि उन्होंने एक दिन में एक करोड़ बीज इस कार्यक्रम के दौरान अरावली क्षेत्र में बरसाए। इस दौरान मुख्य रूप से पीपल, बड़, नीम, शीशम और जामुन के बीज अरावली में डाले गए। बीजारोपण की इस अनूठी मुहिम को हरियाणा प्रदेश ही नहीं पूरे देश में लेकर जाएंगे ताकि देश हरा भरा हो। आने वाली पीढ़ियों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिल सके। ऑक्सीजन बनाने का सशक्त माध्यम पेड़ पौधे हैं।

बीज बरसाने के लिए लाए ड्रोन
इस मौके पर संस्था की ओर से बीजों को अरावली एरिया में बरसाने के लिए 5 ड्रोन मंगाए गए। इसके बाद इनकी मदद से पूरे क्षेत्र में अलग-अलग तरह के बीज डाले गए। ड्रोन के अलावा लोगों ने गुलेल से और घूम घूम कर भी पूरे इलाके में बीजों को डाला। पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने भी गुलेल चलाकर अरावली में बीज फेंके।

मौके पर हरियाणा के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि फरीदाबाद में 9 जुलाई से शुरू किए गए पौधारोपण कार्यक्रम में 28 जुलाई तक आम जनता को साथ लेकर करीब ढाई लाख पौधे लगाने का लक्ष्य है। यह मुहिम प्रदेश में ही नहीं पूरे देश में शुरू की जाएगी। संस्था का यह बेहतर प्रयास है।

%d bloggers like this: