पटना साहिब तख्त के जथेदार ज्ञानी रणजीत सिंह ने दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति के खिलाफ एफ.आई.आर रद्द करने की मांग की

Spread the love

नई दिल्ली, 5 अप्रैलः पटना साहिब तख्त के जथेदार ज्ञानी रणजीत सिंह ने प्रधान मन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री श्री अमित शाह से


दिल्ली में लाक्डॉन के दौरान फंसे लोगों को गुरद्वारा मजनू का टीला में शरण और लंगर प्रदान करने के जुर्म में दिल्ली सरकार द्वारा दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रवन्धक समिति के खिलाफ एफ आई आर रद्द करने की मांग की है। धार्मिक मामलों में सिखों की पाँच सर्वोच्च संस्थओं में एक तख्त श्री हरमिंदर साहिब पटना के जथेदार ज्ञानी रणजीत सिंह ने कहा की लॉक डॉन में फंसे लोगों ने गुरद्वारा मजनू का टीला में शरण मांगी थी क्योंकि बह अपने घरों को नहीं जा सकते थे तथा सिखों की मानवता की सेवा की उच्च परम्परा को निभाते हुए दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति ने समाजिक दुरी सहित अन्य सरकारी आदेशों की अनुपालना करते हुए इन मजबूर लोगों को रहने ,खाने तथा अन्य सभी सम्भव सुविधाएँ प्रदान की तथा दिल्ली सरकार के अधिकारियों को समय रहते इसकी पूरी सुचना प्रदान की थी।


उन्होंने कहा की कोरोना महामारी में दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति ने मानवता की सेवा में सराहनीय काम किया है तथा दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति के खिलाफ दिल्ली सरकार की एफ आई आर की घोर निन्दा करते हुए प्रधान मन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी और गृह मन्त्री श्री अमित शाह से इस एफ आई आर को तत्काल रद्द करने की मांग की तथा दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रबन्धक समिति द्वारा मानवता की सेवा के कार्यों के लिए इसे प्रोत्साहन देने का अनुरोध किया। उन्होंने दिल्ली सिख गुरद्वारा प्रवन्धक समिति की तालीबागी जमात से तुलना करने की घोर शब्दों में निंदा की ।


पटना साहिब तख्त के जथेदार ज्ञानी रणजीत सिंह ने कहा की तख्त पटना साहिब गुरद्वारा समिति द्वारा अपने प्रवन्धन की सभी सरायों को बिहार सरकार को मरीजों के इलाज तथा डॉक्टरों ध्नर्सों को ठहरने के लिए प्रदान किया गया है जबकि पंजाब के एक सौ गुरद्वारे जरूरतमन्द ्प्रवासी श्रमिकों को रोजाना लंगर आदि प्रदान कर रहे हैं।

%d bloggers like this: