लाईट कैमरा तक तो ठिक था, लेकिन एक्शन होते ही कैमरा और लाईट गायब

Spread the love

इस समय में लाईट कैमरा एक्शन का बोलबाला है। लेकिन लाईट कैमरा तक तो ठिक था जैसे ही एक्शन शुरु हुआ लाईट और कैमरा दोनो गायब हो गया। जैसे लाईट कैमरा गायब हुआ, गंगा किनारे लगी लाशों के ढेर भी गायब हो गया।

अब ना तो लाशे तैर रही है नही, तो कब्रे खुद रही है। लाईट कैमरा वाले भी गायब है जब से उत्तर प्रदेश मे योगी का एक्शन शुरु हुआ है। क्योंकि गंगा घाट पर अब योगी पुलिस का पहरा है।

हरियाणा के दो महापुरुष का नाम इस समय देश में सबके जुबान पर है। एक दिल्ली के मालिक अरविन्द कंजरीवाल और दूसरा योगा वाले बाबा रामदेव।

पहला देश को बदनाम करने में महारथी है दूसरा देश और दुनिया को नयी रोशनी योग के माध्यम से दिखाने वाले संत रामदेव। दिल्ली के मालिक केजरीवाल ने अपने गुरु को धोखा दिया सत्ता हासिल कर लिया और अब जनता को धोखा दे रहा है।

दूसरा बाबा रामदेव जो अपने संकल्प लिया और कांग्रेस को सत्ता से नेस्तनाबुत कर दिया। एक गिरगिट के तरह रंग बदलता है तो दुसरा हमेशा राष्ट्र के लिए अडिग है। बदकिस्मती है दोनो ही हरियाणा का है।

वामपंथी के तरकश में एक रवीश कुमार नामक तीर है, रवीश को इस युग का कर्ण कहा जा सकता है। कर्ण इसलिए कह रहा हूँ कि इस समय में रवीश कुमार के बराबर के कोई पत्रकार नही है जैसा कि महाभारत काल में कर्ण था।

जिस प्रकार से कर्ण धर्म को जानते हुए भी कौरवों के धर्म विरुद्ध अभियान में शामिल था वैसे ही आज रवीश कुमार है जो धर्म और राष्ट्र की परिभाषा को जानते हुए भी देश विरोधी वामपंथियों के पक्ष में खड़ा है। जिसके पास हर तीर का तोड़ है , लेकिन एक समय आयेगा जब धर्म के विजय के लिए उसका वध अनिवार्य होगा।

राजनीति अपने सबसे ज्यादा घिनौनी स्तर पर पहुँच गया है।

दिल्ली के केजरीवाल लोगों को मरने के बाद लकड़ी फ्रि में देगा, तो झारखंड के सीएम ने लोगों को कफन मुफ्त में देने का ऐलान कर दिया है। सबसे कमाल तो तीसरे राजस्थान वाले का है जो इन सबसे भी आगे बढकर सोचा है। गहलौत साहब ने तो लकड़ी कफन को छोड़कर , अस्थी विसर्जन के लिए फ्रि बस सेवा से हरिद्वार भेजना के प्रबंध कर लिया है।

लेकिन लोग जीवित रहे इसके लिए सोचना तो इन कांग्रेसी और इनके सहयोगियों के लिए पाप है। लोगों के जीवित रखने के लिए कुछ नही करेंगे। राजस्थान और झारखंड कोरोना वेक्सीन को बर्बाद करने में अव्वल है जिसके लिए इनको कांग्रेस दफ्तर से लाइफ टाइम अचिवमेंट अवार्ड भी दिया जा सकता है। इसमे पहले पर राजस्थान और दूसरे पर झारखंड है।

कोरोना रोकना मोदी की जिम्मेदारी है। भले ही तन्ख्वाह सभी लेते हो। वोट सभी को मिले हो लेकिन कोरोना रोकने का काम सिर्फ मोदी के जिम्मे है। हो भी क्यों नही मोदी विश्व से सबसे बड़े नेता जो है।

मोदी के पास में विश्व के सबसे बड़ा संगठन जो है, मोदी के पास भारत के सबसे बड़े और एक मात्र राजनीतिक पार्टी है , मोदी एक संत है, मोदी मे लोगो को संभालने की क्षमता है। मोदी में लोगों का विश्वास है।

%d bloggers like this: