Covid-19 की मौजूदा भयावह स्थिति के कारण पथ विक्रेताओं के बंद पड़े कारोबार

Spread the love

Covid-19 की मौजूदा भयावह स्थिति के कारण पथ विक्रेताओं के बंद पड़े कारोबार को संज्ञान में लेते हुए पी एम स्वनिध योजना के तहत वितरण किए गए लोन की वापसी की अवधि बढ़ाने अथवा माफ़ किए जाने के संबंध में, यह कि पिछले साल के लॉक डाउन से प्रभावित पटरी दुकानदारों की दयनीय स्थिति को देखते हुए भारत सरकार ने 14 मई 2020 को माननीय वित्तमंत्री महोदया द्वारा दूरदर्शन चैनल के माध्यम से उक्त योजना के तहत देश के करोड़ों रेहड़ी पटरी वालों के लिए 10 हज़ार रुपये की “आर्थिक मदद” करने की घोषणा की गई थी।

यह कि उक्त घोषणा के अनुसार देश के सभी रेहड़ी पटरी दुकानदारों के लिए सराहनीय योगदान के रूप में स्वीकार करते हुए अधिकतर रेहड़ी पटरी दुकानदारों ने नगर निकाय के समक्ष आवेदन प्रस्तुत किया था परंतु उन्हें सरकार द्वारा 14 मई 2020 को TV चैनलों के माध्यम से किए गए घोषणा के विपरीत मदद करने के बजाए 7% ब्याज दरों पर लोन दिया गया यह कि मौजूदा कोरोना काल पूर्व की भांति इस समय अति भयावह है, जिसके कारण देश, प्रदेश अथवा नगर की 95% दुकानें इस भयावह कोरोना काल में बंद हैं,और जो 5% दुकानें Covid-19 प्रोटोकॉल के अनुसार अतिआवश्यक वस्तुओं की सेवा प्रदान करने के लिए खुल भी रही हैं तो इस महामारी में उनका भी कारोबार बुरी तरह से प्रभावित है,जिसके कारण लोन की अदायगी असंभव है। उपरोक्त विषयों के संबंध में प्रार्थी ने एक प्रार्थना पत्र दिनांक 04-05-2021 को भी माननीय जी के समक्ष प्रस्तुत किया था जिसको अभी तक संज्ञान में नहीं लिया गया है। महानुभाव से विनम्र निवेदन है कि उपरोक्त विषयों एवं वर्तमान परिस्थितियों को गंभीरता से संज्ञान में लेते हुए रेहड़ी पटरी दुकानदारों से लोन की वापसी की अवधि बढ़ाने अथवा माफ़ किए जाने के आदेश दिए जाने की कृपा करें। देश का पटरी दुकानदार सपरिवार सदा आपका आभारी रहेगा।

%d bloggers like this: