करोना का कोहराम

Spread the love

करोना के काले बादल के विकराल के रूप घारण काल के गाल मे अकाल मृत्यु के रूप मे विश्व के महाशवित के आकाओ को सोचने को मजबुर कर दिया है ,वह प्रकृति के प्रवृति का सम्मान करें , महाशक्ति के रूप परमाणु हथियार ,जमीन से आसामन को अपनी मुट्टी मे बन्द क्रर अपनी उंगलीयो पर नगा नाच करें। चीन से करोना नामक परजीवी वायरसने दस्तक देते हए अमेरिका ,जापान इटली , स्पेन और भारत मे आप काले साये मे पॉव पसार चुके है, ,
हमारे प्रधान मंत्री जी ने पहले जनता कर्फ्यू व कल रात से 21 दिनो की घरों के अन्दर रहने के लिए कर बद्व प्रार्थना करते हुए एक लक्ष्मण रेखा खीच दी ।ताकि करोना रूपी वैशविक महामारी की दुष्चक्र को तोडा जाय ,राष्ट्र पर अप्रत्याशित विध्वश को रोक कर मानव घर्म का निर्वाह किया जा सकें ।
भारत वर्ष भिन्न भिन्न घर्म ,जाति ,भेष भुषा ,बोली संस्कृति का देश है ,यहा मन्दिर के मंत्रो चारण ,मस्जिद में अजान ,चर्च में मोम बत्ती की आशा की ज्योति जलती है, यहाँ दीवाली के दीये, होली के खुशी के रंग ,ईद की मीठी सेवीयों के साथ ईदी ,किशमस के सेन्टा कॉलोस के गिफ्टस हम भारत वासीयो की प्राण व पहचान है,
आज से बासन्ती नवरात्री का प्रारम्भ हो चुका है, ऐसी घर्म ग्रन्थ व हमारी आस्था है ,जब जब भारत भुमि पर आसुरी शक्ति / प्राकृतिक प्रकोप ,मानव घर्म प्रहार होता है , तो अदृश्य सता ब शक्ति के रूप हमारी मानवता की रक्षा करती है , माँ देवी हम सभी की रक्षा करेगी , करोना रूपी दैत्य का नाश कर पुनः भारत व राम्पूर्ण विश्व को नव जीवन देकर नई शक्ति ,ऊर्जा नव संचार करेगी।
विनोद तकिया वाला , स्वतंत्र पत्रकार

%d bloggers like this: