छत्तीसगढ़ मुठभेड़: कौन है नक्सलियों का खूंखार सरगना ‘हिदमा’

Spread the love

एक खूफिया जानकारी के आधार पर इस ऑपरेशन को शुरू किया गया था. इस खूफिया सूचना के मुताबिक कुख्यात नक्सली नेता हिदमा सुकमा के जंगलों में छिपा हुआ है. ऐसे में सुरक्षाबलों द्वारा यह ऑपरेशन चलाया गया.

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षाबलों पर घात लगाकर नक्सलियों ने हमला किया, जिसमें 22 जवान वीरगति को प्राप्त हुए और 31 जवान घायल हो गए. बता दें कि सुरक्षाबलों द्वारा सुकमा-बीजापुर इलाके में ऑपरेशन चलाया जा रहा था, जिस दौरान घात लगाए नक्सलियों के वे शिकार हो गए. बता दें कि एक खूफिया जानकारी के आधार पर इस ऑपरेशन को शुरू किया गया था. इस खूफिया सूचना के मुताबिक कुख्यात नक्सली नेता हिदमा सुकमा के जंगलों में छिपा हुआ है. ऐसे में सुरक्षाबलों द्वारा यह ऑपरेशन चलाया गया.

लेकिन इंडिया टुडे की एक खबर के मुताबिक जब सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन शुरू किया तो उस दौरान नक्सलियों का समूह सुरक्षाबलों का घात लगाकर इंतजार कर रहे थे.सुरक्षाबलों की टीम जब वहां पहुंची तो नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी और तीन घंट तक लगातार गोलीबारी हुई, जिसमें हमारे 22 जवानों की मौत हो गई. ऐसे में फिलहाल हर जगह कुख्यात नक्सली हिदमा को लेकर बाते हो रही हैं.

हिदमा लगभग 40 वर्षीय एक आदिवासी है, जो सुकमा जिले के एक गांव पुवर्ती का रहने वाला है जो 1990 के दशक में नक्सली बना था. बता दें कि हिदमा पीपल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी का मुखिया है. उसके ग्रुप में 180 -250 नक्सली शामिल हैं जिसमें महिलाएं भी हैं. हिदमा की हालिया तस्वीर फिलहाल किसी भी एजेंसी के पास नहीं है लेकिन वह कितना खूंखार है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसपर 40 लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है.

NIA ने हिदमा के खिलाफ मांडवी मर्डर केस में चार्जशीट फाइल की है. बता दें कि भीमा मांडवी भाजपा विधायक थे, जिनपर साल 2019 में दंतेवाडा में हमला हुआ था, जिसमें उनके ड्राइवर सहित 3 सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी गई थी. जानकारी के मुताबिक घटना वाले दिन हिदमा के नेतृत्व में PLGA काम कर रही थी. बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब एक साथ कई जवानों पर नक्सलियों ने हमला किया है. इससे पहले भी हमारे 17 जवान सुकमा के मिनापा में नक्सली हमले में वीरगति को प्राप्त हो चुके हैं.

%d bloggers like this: