CBSE की 12वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द, केंद्र के फैसले पर बोले CM केजरीवाल- बहुत खुशी हुई

Spread the love

केंद्र की बैठक से पहले सीएम केजरीवाल ने 12वीं की परीक्षा पर चिंता जताई थी. उन्होंने कहा था कि 12वीं की परीक्षा को लेकर बच्चे और पेरंट्स काफी चिंतित हैं.

कोरोना संक्रमण से उत्पन्न हुई परिस्थितियों के कारण इस वर्ष बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी गई हैं. आज मंगलवार शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi CBSE Exam) की अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया गया. बैठक में निर्णय लिया गया कि बारहवीं कक्षा के छात्रों का परिणाम बेहतर मानदंड के अनुसार समयबद्ध तरीके से घोषित किया जाएगा.

12वीं की परीक्षा रद्द होने के निर्णय पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने प्रसन्नता व्यक्ति की. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मुझे खुशी है कि 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी गई है. हम सभी अपने बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर बहुत चिंतित थे. ये एक बड़ी राहत है.

केंद्र की बैठक से पहले सीएम केजरीवाल ने 12वीं की परीक्षा पर चिंता जताई थी. उन्होंने कहा था कि 12वीं की परीक्षा को लेकर बच्चे और पेरंट्स काफी चिंतित हैं. वे चाहते हैं कि बिना वैक्सिनेशन, 12वी की परीक्षा नहीं होनी चाहिए. मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि 12वीं की परीक्षा रद्द की जाए. पिछले Performance के आधार पर आंकलन किया जाए.

मालूम हो कि प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को सीबीएसई की बारहवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की. अधिकारियों ने उन्हें अब तक हुए व्यापक परामर्श और राज्य सरकारों सहित सभी हितधारकों से प्राप्त विचारों पर एक विस्तृत प्रस्तुति दी.

प्रधानमंत्री ने कहा कि सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा पर फैसला छात्रों के हित में लिया गया है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 ने अकादमिक कैलेंडर को प्रभावित किया है और बोर्ड परीक्षाओं का मुद्दा छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों में अत्यधिक चिंता पैदा कर रहा है, जिसे समाप्त किया जाना चाहिए.

पीएम ने कहा कि देश भर में कोविड की स्थिति एक गतिशील स्थिति है जबकि देश में संख्या कम हो रही है और कुछ राज्य प्रभावी सूक्ष्म-नियंत्रण के माध्यम से स्थिति का प्रबंधन कर रहे हैं, कुछ राज्यों ने अभी भी तालाबंदी का विकल्प चुना है. ऐसे में छात्रों के स्वास्थ्य को लेकर छात्र, अभिभावक और शिक्षक स्वाभाविक रूप से चिंतित हैं. पीएम ने कहा कि ऐसी तनावपूर्ण स्थिति में छात्रों को परीक्षा में बैठने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए.

बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल, सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, पेट्रोलियम मंत्री अशोक प्रधान, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय और प्रधान मंत्री के प्रधान सचिव, कैबिनेट सचिव और स्कूली शिक्षा और उच्च शिक्षा विभागों के सचिव और अन्य अधिकारियों ने भाग लिया.

%d bloggers like this: