newszine

विवेक का प्रयोग

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
जापान के किसी गांव में एक समुराई बूढ़ा योध्दा रहता था। उसके पास कई युवा समुरई युध्दकला का प्रशिक्षण लेने आते थे। एक बार एक विदेशी  योध्दा उसे पराजित करने के लिए आया। बल के साथ ही विरोधी की कमजोरी भुलाने की उसमें अद्भुत क्षमता थी।  वह हमेशा विजयी होकर लौटता था। जब विदेशी योध्दा Read More

आत्मनिर्भरता

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
चंद्रपुर के राजा की मृत्यु के बाद उसके पुत्र सौरभ को राजगद्धी मिली। युवा सौरभ बेहद परेशान था। वह समझ नहीं पा रहा था कि किसका विश्वास करे और किसका नहीं। उसे राज-काज चलाने में काफी परेशानी हो रही थी। एक दिन वह अपने महल के सबसे ऊपरी स्थान पर खड़ा था। तभी अचानक उसकी Read More

डाकू और संत

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
डाकूओ का एक सरदार संत का वेश बनाकर रहता था किंतु काम डाका डालने का करता था। उसके कई शिष्य थे। एक बार व्यपारियों  की एक टोली उसी रास्ते से गुजरी जहां डाकू रहते थे। डाकुओं ने सोचा कि आज तो घर बैठे ही शिकार मिल गया। डाकू घेरा डालकर उन्हें लगे। डाकुओं का सरदार Read More

परीक्षा

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
पंडित नारायण दास के आश्रम में दूर-दूर से विध्दार्थी पढ़ने आते थे। वे अत्यंत कुशल आचार्य थे। उनकी मात्र एक पुत्री थी जिसे ने बहुत प्यार करते थे। एक दिन पंडित जी के मन में यह विचार आया- मैं अपने शिष्यों की परीक्षा लेकर देखूं कि इनमें से किसने मेरी शिक्षा आत्मसात किया है ? Read More

शत्रु की सेवा

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
यह उन दिनों की बात है जब अमेरिका में दास प्रथा जोरों पर थी। वहां बेकर नामक एक दास था । जो अपनी लगन, मेहनत और स्वमिभक्ति के कारण अपने मालिक का विश्वासपात्र वन गया था। एक दिन जब  उसने अपने मालिक से एक वृध्द एवं निर्बल दास को खरीदने की प्रार्थना की। बेकर का Read More

दुर्गध

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
अवंतिका देश का राजा रवि सिंह महात्मा आशुतोष पर  बड़ी श्रद्धा-भक्ति रखता था। वह प्राय: उनसे मिलने के लिए वन में स्थित उनकी कुटिया पर भी जाता था रिव सिंह हर बार महात्मा को राजमहल आने का निमंत्रण देता लेकिन महात्मा आने से मना कर देते। एक दिन रवि सिंह ने जिद पकड़ ली। तब Read More

ईमानदार चरवाहा

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
प्रसिद्ध सूफी संत उमर अपने पास आने वाले शिष्यों और आगंतुकों की परीक्षा लेते थे। वे उत्तर देने में उन्हें थोड़ी परेशानी होती थी। फिर संत उमर स्वयं उसका समाधान करते थे इसके पीछे संत उमर का उद्धेश्य परोपकार या लोकहित का संदेश देना होता था। एक बार उमर बगदाद स्थित अपने ठिकाने से जंगल Read More

नीति और धर्म

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
महाभारत के समय की बात है । कौरवों और पांडवों में घमासान युध्द हो रहा था । कर्ण ने धनुर्धर अर्जुन को मारने की शपथ ले रखी थी । कर्ण बाण पर बाण चला रहा था । एक बार जब उसका बाण  अर्जन की ओर आया तो श्रीकृष्ण ने रथ को नीचे झुका दिया । Read More

दुष्कर्म का फल

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
भरतपुर गाँव में एक वैद्ध रहता था ।औषधि लेने के लिए प्राय: लोग उसके पास आते रहते थे ।लेकिन उसकी दवा के दैरान दो –तीन लोगों की मौत हो जाने के कारण अब उससे गाँव का कोई भी व्यक्ति इलाज नहीं करवाता था । ऐसी स्थिति में वैद्ध ने असपास के गाँव के रोगियों का Read More

सच्ची सीख

5 months ago Vatan Ki Awaz 0
एक बार गुरू नानक देव अपने कुछ शिष्यों के साथ लाहौर गए । वहां यब नियम था । कि जिस व्यक्ति के पास जितनी  अधिक धन संपत्ति होती थी, वह अपने घर के ऊपर उतने ही झंडे लगाता था उस समय लाहौर में दुनीचंद नामक व्यक्यि सबसे अधिक धनी और समृध्द था उसके पास लगभग Read More
Follow by Email
Facebook
Google+
https://vatankiawaz.com/category/%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%97/ideal-story/page/2">
Twitter
Pinterest
LinkedIn
Instagram