बिहार: दलितों पर इस्लामिक हमला, कई घर जलाये , एक मौत कई घायल।।

Spread the love

देश भर हिंदुओं पर लगातार हमले किये जा रहे है। खासकर दलित समाज पर हो रहे जिहादी हमले बहुत ही निंदनीय है। जिस प्रकार से बिहार के पुर्णिया में दलित समाज के ऊपर हमला किया गया और महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार के समाचार भी मिल रहे है। घटना के बाद से हर बात पर संज्ञान लेने वाले बिहार के युवा नेता तेजस्वी और लाल सलाम गुट भी गायब है।

मामला पुर्णिया बिहार के वयासी थाना क्षेत्र का है, जहाँ से प्राप्त खबर के मुताबिक जमीन विवाद को लेकर हुए विवाद में हिंसक झड़प के साथ-साथ कई घरों को आग लगाये जाने की खबर है। खुनी हिंसा में एक पूर्व चौकीदार की मौत हो गयी है जबकि दर्जनों लोग घायल हुए है।

इस घटना के बाद मौके पर पुलिस प्रशासन पहुँच गयी लेकिन लाल सलाम गैंग नदारद है। वही लाल सलाम गैंग जो कि हमेशा से दलितों के पक्ष में बड़े बड़े ब्यान देते है। क्योंकि मामला यहाँ पर मुसलमानों से जुड़ा है इसलिए शायद उनके कानून में लिखा है कि यहाँ चुप ही रहो कुछ न कहो।

यह मामला कोई नया नही है इस तरह के मामला देश भर में हो रहे है। दिल्ली जो कि देश की राजधानी है वहाँ भी कुछ ऐसा ही हालाता है। एक परिवार अपने और मंदिर को बेचने के लिए पोस्टर लगा दिया है वही गाजियाबाद में एक यादव परिवार के साथ मार-पीट की खबर है। हिंदू परिवार वहाँ से पलायन करने को तैयारी में है।

अक्सर देखा जाता है कि दलित महा दलित या दूसरे समाज को धर्मांतरण के लिए कहा जाता है और नही मानने पर इस पर कि सुनियोजित घटना को अंजाम दिये जाते है। जहाँ भी हिंदुओं की आबादी 50% प्रतिशत के कम है वहाँ पर अक्सर ऐसा देखा जाता है। हालांकि हिन्दुओं में सेक्यूलरिज्म के नशा कारण हमेशा ही उनके बहन बेटियाँ जेहादियों के शिकार होती रहती है। लेकिन भाई चारा और गंगा यमुना तहजीब में डुबे हिंदू हमेशा चारा बनता रहा है।

वोट बैंक के नशे में चाटुकार नेता हमेशा दलित महादलित और गरीब पिछड़ा अति पिछड़ा सिर्फ चुनाव के समय में ही याद आते है। जाति के बीच में दरार पैदा करने वाले नेता महजबी आक्रांताओं के हमले के बाद चुप रहना ही बेहतर समझते है। देश मे कई परिवारवादी पार्टी है, और कई जातिवादी लेकिन वह सिर्फ वोट लेने के लिए है। समय है कि हम जाति को छोड़कर हिंदू एक हो जाय और लगातार हो रहे हिंदुओ पर हमले को लेकर प्रतिकार करे।

%d bloggers like this: