केरल में जबरदस्त घर वापसी की खबर , 206 लोगों ने स्वीकार किया हिंदू धर्म।

Spread the love

केरल में घर वापसी की बड़ी खबर है। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक साल 2020 में 506 लोगों नें धर्म परिवर्तन किया है जिसमें से 206 लोगों नें हिंदू धर्म को पुन: स्वीकार किया है। ये परिवर्तन ईसाई और इस्लाम से हुई है।

एक तरफ जहाँ उत्तर प्रदेश सरकार नें धर्म परिवर्तन को लेकर कानूनी शिकंजा कसा है वही दूसरी तरफ केरल से एक संतोष पहुंचाने वाली खबर है। उत्तर प्रदेश सरकार के नये नियम के अनुसार धर्म परिवर्तन करने से पहले जिला मजिस्ट्रेट के सामने पेश होना है। वही केरल में सिर्फ एक विज्ञापन देना होता है कि हम पहले इस धर्म से संबंधित थे और अब हमने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया है और अब मै इस धर्म से संबंध रखता हूँ।


जबकि भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में, हिंदू और ईसाई मतदाताओं को लुभाने के लिए केरल में उत्तर प्रदेश मॉडल कानून के खिलाफ जबरदस्ती धर्म परिवर्तन और ‘लव जिहाद’ का वादा किया है, जो सरकारी गजट से TNIE द्वारा लिए गए आंकड़ों से पूरी तरह अलग तस्वीर पेश करती है। ।

वर्ष 2020 के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, नए धर्मान्तरित होने के मामले में सबसे बड़ा लाभ – हिंदू धर्म था को हुआ है। हिंदू धर्म अपनाने वाले लोगों ने संदर्भ के तहत एक साल की अवधि के दौरान केरल में 47 प्रतिशत घर वापसी हुआ है। जिसे अखबार ने धर्म परिवर्तन लिखा है। हम सभी जानते है कि भारत में सभी लोग हिंदू ही थे। जिसे तलवार के बल पर या फिर लालच देकर परिवर्तन कराया गया था।
धर्म परिवर्तन करने वाले कुल 506 लोगों में से 241 ऐसे थे जो ईसाई धर्म या इस्लाम से हिंदू धर्म में परिवर्तित हो गए। कुल 144 व्यक्तियों ने इस्लाम अपना लिया जबकि ईसाई धर्म को वर्ष में 119 नए विश्वासियों ने प्राप्त किया, जो आंकड़ों को दर्शाता है।

नियम के अनुसार, नाबालिगों सहित आधिकारिक रूप से अपना धर्म बदलने वाले लोगों को राजपत्र में इसका विज्ञापन करना होता है जैसा कि हमने पहले भी जिक्र किया है। हिंदू धर्म में नए घर वापसी करने वालों में 72% दलित ईसाई थे, जिनमें ज्यादातर ईसाई चेरमर्स, ईसाई सांबा और ईसाई पुलायस थे। यह स्पष्ट था कि आरक्षण के लाभ की कमी ने कई दलित ईसाइयों को हिंदू धर्म को फिर से अपनाने के लिए मजबूर किया। साथ ही, हिंदू धर्म में शामिल होने के लिए 32 लोगों ने इस्लाम छोड़ दिया।

ईसाइयत ने अन्य दो धर्मों के लिए 242 विश्वासियों को खो दिया और केवल 119 व्यक्तियों को आकर्षित किया। इस्लाम ने 144 नए विश्वासियों को प्राप्त किया और इस अवधि में 40 खो दिए। बौद्ध धर्म को दो नए विश्वासी मिले जिन्होंने हिंदू धर्म से किनारा कर लिया।

77% इस्लाम में धर्मान्तरित हिंदू है जिसमे से 63% महिलाएं थीं। इसने सबसे ज्यादा इजावा, थिया और नायर समुदायों के लोगों को आकर्षित किया। 13 महिलाओं सहित 25 व्यक्तियों ने हिंदू एझावा से इस्लाम में प्रवेश किया।

११ महिलाओं सहित १ थिया समुदाय के सदस्य इस्लाम में परिवर्तित हो गए। 12 महिलाओं सहित 17 व्यक्ति नायर समुदाय से थे। ईसाई धर्म से इस्लाम को पार करने वाले 33 व्यक्तियों में से 9 सीरियाई कैथोलिक थे, जिनमें दो महिलाएँ शामिल थीं।

At 47%, Hinduism biggest gainer in religious conversion in Kerala
Of the total 506 people who registered their change of religion with the government, 241 were those who converted from Christianity or Islam to Hinduism.
THIRUVANANTHAPURAM: While the BJP, in its election manifesto, has promised an Uttar Pradesh model law against forceful religious conversion and ‘love jihad’ in Kerala to woo Hindu and Christian voters, the data sourced by TNIE from the government gazettes paint an altogether different picture.

According to official figures for the year 2020, the biggest gainer – in terms of new converts – was Hinduism. People who embraced Hinduism constituted 47 per cent of religious conversions in Kerala during the one-year period under reference.
Of the total 506 people who registered their change of religion with the government, 241 were those who converted from Christianity or Islam to Hinduism. A total of 144 persons adopted Islam whereas Christianity received 119 new believers in the year, shows the data.

As per the rule, people who officially change their religion, including minors, have to advertise it in the gazette. 72% of the new converts to Hinduism were Dalit Christians, mostly Christian Cheramars, Christian Sambavas and Christian Pulayas. It was evident that lack of reservation benefits forced many Dalit Christians to re-embrace Hinduism. Also, 32 people left Islam to join Hinduism.

Christianity lost 242 believers to the other two religions and attracted only 119 persons. Islam gained 144 new believers and lost 40 during the period. Buddhism received two new believers who switched from Hinduism.

77% of the new converts to Islam were Hindus and 63% women. It attracted the highest number of persons from Ezhava, Thiyya and Nair communities. 25 persons, including 13 females, switched from Hindu Ezhava to Islam.

17 Thiyya community members including 11 females converted to Islam. 17 persons including 12 females were from the Nair community. Of the 33 persons who crossed over to Islam from Christianity, 9 were Syrian Catholics, who included two women.

https://www.newindianexpress.com/states/kerala/2021/apr/02/at-47-hinduism-biggest-gainer-in-religious-conversion-in-kerala-2284660.html

%d bloggers like this: