कोलकाता में असदुद्दीन ओवैसी की रैली रद्द, अब ममता बनर्जी से बढ़ेगी तकरार?

Spread the love

आज कोलकाता में होने वाली रैली को कलकता पुलिस ने रद्द कर दिया है. इससे असदुद्दीन ओवैसी और ममता बनर्जी के बीच तल्खी बढ़ सकती है.

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव अप्रैल-मई के महीने में होने वाले हैं. इससे पहले सभी पार्टियां बंगाल में अपनी राजनीतिक जमीन को तैयार करने में जुटी हुई हैं. इन्हीं पार्टियों में से एक है सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM). बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election 2021) में ओवैसी की पार्टी भी भाग लेने वाली है लेकिन गुरुवार यानी आज कोलकाता में होने वाली रैली को कलकता पुलिस ने रद्द कर दिया है. इससे असदुद्दीन ओवैसी और ममता बनर्जी के बीच तल्खी बढ़ सकती है.

AIMIM का आरोप

AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी मेतियाब्रुज इलाके में रैली के जरिए बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी के प्रचार का आगाज करना था. AIMIM के प्रदेश अध्यक्ष जमीर उल हसन के मुताबिक उन्हें इस रैली के लिए इजाजत नहीं दी गई है. उन्होंने बताया कि हमने इसके लिए 10 दिन पहले आवेदन किया था लेकिन रैली से ठीक एक दिन पहले पुलिस ने हमे सूचित किया कि रैली की इजाजत नहीं दी गई है.

बिहार के बाद बंगाल पर नजर

बता दें कि इस मामले पर कोलकाता पुलिस द्वारा कोई भी प्रतिक्रिया नहीं आई है. वहीं टीएमसी के सांसद सौगत रॉय ने इस मामले में पार्टी की भूमिका से इनकार किया है. बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में AIMIM का प्रदर्शन सराहनीय रहा था, जिसके बाद असदुद्दीन ओवैसी और उनकी पार्टी अब बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जोरों-शोरों से लग चुकी है.

बता दें कि पश्चिम बंगाल में मुस्लिम वोटरों की संख्या 28 प्रतिशत है, जोकि सरकार बनाने और गिराने में एक अहम भूमिका निभा सकते हैं. ऐसे में अबतक मुस्लिम वोटर ममता बनर्जी के पाले में था, लेकिन ओवैसी के आने के बाद संभावना जताई जा रही है कि ममता बनर्जी के वोटबैंक में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी सेंध लगा सकती है.

%d bloggers like this: