जिलाधिकारी के हस्तक्षेप के बाद फोर्टिस अस्पताल किया 1 लाख 30 हजार बिल माफ

Spread the love

नोएडा फोर्टिस अस्पताल में कोविड के मरीजों का बनाया 2 लाख 84 हजार की बिल। जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर, रेहड़ी पटरी संचालक एसोसिएशन, ओएसडी प्राधिकरण व राईज एनजीओं के हस्तक्षेप के बाद किया 1 लाख 30 हजार की बिल माफ। 15 दिनों के ईलाज के बाद मरीज श्याम सिंह ने 7 मई को दम तोड़ा।

नोएडा में रेहड़ी पटरी के काम करने वाले श्याम सिंह पिछले 15 दिनों से फोर्टिस अस्पताल में भर्ती था जो कि 7 मई को दम तोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक 20 अप्रैल से उसका कोरोना का ईलाज चल रहा था। परिवार के अकेला कमाने वाला था। अस्पताल नें 2लाख 84 हजार के बिल बनाया लेकिन मरीज को बचा नही सका।

परिजन 1 लाख 54 हजार रुपया पहले ही अस्पताल में जमा करा दिया था। गरीबी के कारण बांकि पैसे देने में असमर्थ था। लेकिन अस्पताल ने शव देने से पहले पूरा पैमेंट करने की बात कह कर शव देने से मना कर दिया। जिसके बाद परिजनो नें जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर को पत्र लिखकर बिल माफी की गुहार लगायी। जिलाधिकारी एल सुहास एल वाई, पुलिस कमीशनर,ओएसडी प्राधिकरण, रेहड़ी पटरी संचालक एसोसिएशन, राईज अनिल के गर्ग के हस्तक्षेप के बाद अस्पताल ने बिल माफ किया और शव को परिजनों के हवाले किया। हाल ही में श्याम सिंह के बेटी का विवाह भी होने वाला था। अब रेहड़ी पटरी संचालक एसोसिएशन नें परिजनों को भरोसा दिलाया है और बेटी की शादी की जिम्मेदारी ली है।

रेहड़ी पटरी संचालक एसोसिएशन में इस सहयोग के लिए जिला के पुलिस कमीशनर, जिलाधिकारी, राईज एनजीओ, ओएसडी प्राधिकरण का आभार व्यक्त किया है। प्राधिकरण से आग्रह किया है कि बहुत सारे रेहड़ी पटरी वाले इस समय में बेरोजगार है जिसे सहायता की अति आवश्यकता है। कृप्या उन पर संज्ञान लेते हुए उनको राशन किट उपलब्ध कराये। साथ ही वेक्सीनेशन भी करवाया जाये।

%d bloggers like this: