लंबी कानूनी लड़ाई के बाद तीन 😲फीट के गणेश को एमबीबीएस में मिला👏 दाखिला

Spread the love

तीन फीट के गणेश विठ्ठलभाई अब मेडिकल के छात्र हैं। गुजरात के भावनगर जिले के मेडिकल कॉलेज में उन्होंने पढ़ाई शुरू कर दी है। कॉलेज में वह फर्स्ट ईयर के कॉन्फ्रेंस हॉल में पहली पंक्ति में बैठे नजर आए। मेडिकल का छात्र बनने के लिए उन्हें लंबी कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी थी।

गणेश ने मीडिया को बताया कि कॉलेज में उनका पहला दिन शानदार था। साथ पढ़ने वाले सभी छात्रों और कॉलेज में पढ़ाने वाले डॉक्टरों ने मेरा तहे दिल से स्वागत किया। मैं आज बहुत अच्छा लग रहा है, क्योंकि मैंने इस डिग्री के लिए कई मोर्चों पर लड़ाइयां लड़ी है। मैं आज बेहद खुश हूं। मैं साथ देने वाले सभी लोगों का धन्यवाद करना चाहता हूं। उनके सहयोग के बिना मेरा सपना साकार नहीं हो सकता था।

गणेश विठ्ठलभाई को NEET परीक्षा में 223 अंक मिलने के बाद भी उन्हें मेडिकल कॉलेज में दाखिला नहीं दिया गया था। दाखिला नहीं होने की वजह थी, उनकी हाइट। साल 2018 में उनकी उम्र 17 साल थी और उनकी हाइट मात्र 3 फीट, जबकि वजन 14 किलोग्राम था।

गणेश की ऐसी कदकाठी को देखकर उन्हें किसी भी मेडिकल कॉलेज में दाखिला नहीं दिया गया। गणेश ने इतना कुछ होने के बाद भी हार नहीं मानी और कानूनी लड़ाई लड़ी। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को उन्हें मेडिकल कॉलेज में दाखिला देने का आदेश दिया है।

गणेश विठ्ठलभाई के शिक्षकों और स्कूल ने अपने प्रतिभाशाली विद्यार्थी के अधिकारों की लड़ाई के लिए सुप्रीम कोर्ट गए। सुप्रीम कोर्ट में फैसला उसके पक्ष में आया। सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि सिर्फ हाइट के कारण किसी को उसका करियर बनाने से नहीं रोका जा सकता। गणेश की उम्र अब 18 साल हो चुकी है और वजन भी 14 से बढ़कर 15 किलोग्राम हो गया है, और उनकी हाइट 3 फीट ही है।

%d bloggers like this: