लालच

4 months ago Vatan Ki Awaz 0

लालच
पंडित माधव प्रसाद काशी से वेद , उपनिष्ट तथा न्याय आदि की शिक्षा ग्रहन करके गांव को लौट रहे थे । तभी रास्ते मे एक व्यक्ति ने उनसे पाप का कारण पुछा । पंडित जी सोच मे पर गए । वे उसके प्रश्न का उतर न दे सके और आगे बढ गए । अब पंडित जी एक नगर से गुजर रहे थे । उनका मन उसी प्रश्न मे उलझा हुआ था
उस नगर मे एक वेश्या ने पंडित जी को अपने झरोखे से देखा । उसके मन मे विचार आया कि यह व्यक्ति अत्यंत विव्दान दिखता है और कुछ चितित भी । अत: उसने अपने दासी को भेजकर उनकी चिंता का कारण जानना चाहा । दासी ने पंडित जी को सारी बात बताई । यह सुनकर पंडित जी बोले ,” मेरी परेशानी शास्त्रीय है जिसका उतर तुम्हारी मालकिन के पास नही है । “
दासी ने पडिंत जी से रुकने को कहा । फिर अपनी मालकिन से मिलकर आई और बोली , “ मेरी मालकिन के पास आपकी परेशानी का उतर है ।“

Generic Electronic Kitchen Digital Weighing Scale, Multipurpose (White, 10 Kg)

पंडित जी उससे मिलने के लिए चल पड़े । वेश्या ने उनके लिए कच्चे अन्न एंव अग्नि का इंतजाम किया । पंडित जी वहां ठहर गए ।
एक दिन वेश्या ने कहा ,” पंडित जी । आपके भोजन बनाने मे कष्ट होता है । यदि आप अनुमति दें तो मे आपके लिए भोजन बनाकर अपने पापो का प्रायश्चित करुं । इसके लिए मै आपको प्रतिदिन आपको दस स्वर्ण मुद्राए दान में दुंगी । “
पंडित जी ने सोचा – यह स्त्री अब सुधरना चाहती है , फिर यहा कोई देखने वाला भी नही है , अत: इसकी बात मान लेनी चाहीए । मै प्रतिदिन इस पाप का प्रायश्चित कर लुगा । यह सब सोचकर पंडित जी तैयार हो गए दुसरे दिन उस वेश्या ने स्वदिष्ट पकवान बनाए और पंडित जी को बुलाया । पंडित जी जैसे ही भोजन करने बैठे ,वेश्या ने उनके सामने रखी थाली हटा दी । वह बोली , “पंडित जी । क्षमा करें , मै आप जैसे ब्राह्मण का धर्म और नियम भंग नही करना चाहती लेकिन इसी मे आपके प्रश्न का उतर है । आप जैसा पंडित जो दुसरो का छुआ अन्न भी नही ग्रंहन करना था ,एक वेश्या का अन्न लेने को तैयार हो गया –इसलिए पाप का मुल्य लालच ही है ।“

Please follow and like us: