भारत की मदद के लिए US से मेडिकल आपूर्ति की 5वीं और Kuwait से एक प्‍लाइट आई

Spread the love

कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहे भारत को दुनिया के कई देशों से मिल रही मदद.

कोरोना संक्रमण की महामारी के संकट से जूझ रहे भारत को मेडिकल आपूर्ति की सहायता कर रहे अमेरिका का 5 पांचवां प्‍लेन आज मंगलवार को सुबह पहुंचा है. यह प्‍लेन 545 ऑक्‍सीजन कॉन्‍सन्‍ट्रेटर्स लेकर आई है. वहीं, कुवैत ने एक प्‍लेन से 282 ऑक्‍सीजन सिलेंडर, 60 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स, वेंटिलेटर और अन्य मेडिकल सप्लाई भेजी है, आज सुबह भारत पहुंच गई है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, “चिकित्सा उपकरणों की एक श्रृंखला में पांचवां स्थान अमेरिका से आया है. यह 545 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स ले कर आया है.

न्‍यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, भारत में कुवैत से 282 सिलेंडर, 60 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स, वेंटिलेटर और अन्य मेडिकल सप्लाई वाली फ्लाइट आ चुकी है.

बता दें कि इससे पहले अमेरिका 4 प्‍लेन से ऑक्सीजन उत्पादन एवं भंडारण उपकरण के साथ ही वेंटिलेटर भारत भेज चुका है. भारत कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है और यहां बीते कुछ दिनों से रोजाना तीन लाख से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं. अस्पतालों में चिकित्सीय ऑक्सीजन, बिस्तरों की काफी कमी है.

5 दिन में कई देशों से 25 उड़ानें 300 टन कोविड राहत सामग्री लेकर दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची
दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोरर्ट पर पिछले 5 दिनों में 25 उड़ानें 300 टन कोविड-19 राहत सामग्री लेकर पहुंची हैं. हवाई अड्डे के संचालक डेल्ही इंटरनेशल एयरपोर्ट लिमिटिड (डायल) ने सोमवार को एक बयान में बताया कि हवाई अड्डे ने राहत सामग्री को अंतरिम रूप से रखने व वितरण करने के लिए 3500 वर्ग मीटर में ‘जीवोदय गोदाम’बनाया है.

28 अप्रैल से दो मई के बीच करीब 25 उड़ानें दिल्ली
भारत कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहा है और कई राज्यों के अस्पताल दवाइयों, ऑक्सीजन व बिस्तरों की भारी किल्लत का सामना कर रहे हैं. बयान के मुताबिक, 28 अप्रैल से दो मई के बीच, पांच दिनों में करीब 25 उड़ानें दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची, जिनमें करीब 300 टन सामान था.

इन देशोंं से आई मदद
बयान में बताया गया है कि ये उड़ानें अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, उज्बेकिस्तान, थाइलैंड, जर्मनी, कतर, हांगकांग और चीन आदि जैसे विभिन्न देशों से आई थी. उसमें कहा गया है कि अधिकतर राहत उड़ानों का संचालन भारतीय वायुसेना के विमानों ने किया है जिनमें आईएल 76, सी-130, सी-130, सी-5, सी-17 शामिल हैं. बयान के मुताबिक, ये उड़ानें 5500 ऑक्सीजन सांद्रक, 3200 ऑक्सीजन सिलेंडर, 9,28,000 से अधिक मास्क, 1,36,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन लेकर आई हैं.

%d bloggers like this: