💑 प्रेमी ही निकला ‘जिगर 👦के टुकड़े’ का कातिल,🔪 मां ने लिया बदला🤛

2 weeks ago Vatan Ki Awaz 0


ये कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि हकीकत है। एक प्रेमिका अपने प्रेमी के साथ जिंदगी के हसीन सपने देखती है। लेकिन उसे ये नहीं पता कि जिसके साथ वो आगे की सफर पर आगे बढ़ने का फैसला करती है वो उसके ही बेटे का कातिल निकलेगी। प्रेमिका को जब अपनी प्रेमी की इस हरकत का पता चलता है तो वो अपने जिगर के टुकड़े के हत्यारे यानि अपने प्रेमी को रास्ते से हटाने का फैसला करती है और भाड़े के हत्यारों के जरिए उसकी जिंदगी का द एंड कर देती है। फिल्मी पैटर्न चलने वाली इस कहानी में अलग अलग किरदारों को समझने की जरुरत है।

चेन्नई के नेसपक्कम इलाके में मंजुला नाम की एक महिला अपने पति कार्तिकेयन के साथ हंसी खुशी जिंदगी गुजार रही होती है। मंजुला को कार्तिकेयन से 9 साल का बेटा रीतेश साई है। मंजुला, तमिलनाडु ईबी सर्विस में इंजीनियर का काम करती है। दोनों की जिंदगी सरपद दौड़ रही होती है , लेकिन इसी बीच नागार्जुन नाम के शख्स की एंट्री होती है। नागार्जुन और मंजुला की आंखें दो से चार होती है और दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठते हैं। वक्त के साथ सब कुछ सही चल रहा होता है, लेकिन कहीं न कहीं मंजुला का 9 साल का बेटा रीतेश को नागार्जुन अपनी राह का रोड़ा मानता है और उसे रास्ते से हटाने का फैसला करता है।

नागार्जुन, रीतेश की हत्या कर देता है और तफ्तीश के बाद जब शक, हकीकत में बदलता है तो नागार्जुन को जेल हो जाती है। कुछ महीने जेल में गुजारने के बाद नागार्जुन वापस सामान्य जिंदगी में लौटता है लेकिन इस हकीकत से वो अंजान है कि अब उसकी जिंदगी के कुछ पल ही बचे हैं। पुलिस के मुताबिक मंजुला के दिल में बेटे के हत्यारे के लिए प्रतिशोध की भावना है वो किसी भी कीमत पर अपने जिगर के टुकड़े को खुद सजा देने का फैसला करती है। उचित मौका आने पर वो भाड़े के हत्यारों के जरिए नागार्जुन को मार देती है।

Please follow and like us: