लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना का बीजेपी को बड़ा झटका, सूत्रों की माने तो गठबंधन नहीं करेंगे उद्धव ठाकरे

2 weeks ago Vatan Ki Awaz 0

दिल्ली लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना ने बीजेपी को जोरदार झटका दिया है। शिवसेना ने कहा कि आने वाले चुनाव में शिवसेना बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। ये बयान शिवसेना नेता रामदास कदम ने दिया है। शिवसेना नेता रामदास कदम ने कहा है कि शिवसेना अब बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करेगी उन्होंने कहा कि शिवसेना 2019 का आम चुनाव बीजेपी के साथ मिलकर नहीं लड़ेगी। 
इससे पहले गठबंधन के सवाल पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि है कि जिसको जरूरत है वो गठबंधन करेगा। नहीं तो शिवसेना का नारा है अकेला चलो, तो अकेले भी चुनाव मैदान में जा सकते हैं।
हम आपको बता दें कि शिवसेना का ये बयान ठीक उस वक्त आया है जब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने महाराष्ट्र के सांसदों के साथ बैठक में कहा था कि हम शिवसेना का इंतजार करेंगे। लेकिन कुछ गवांकर गठबंधन नहीं किया जाएगा। 
आपको ज्ञात करादें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने 48 सीटो में से 40 सीट पर जीत दर्ज की थी। बीजेपी को 22 सीट मिली थी जबकि शिवसेना को 18 सीटें मिली थी।
गौरतलब है कि महाराष्ट्र में काफी लम्बे समय से बीजेपी और शिवसेना मिलकर चुनाव लड़ती आ रही है। लेकिन इधर कई दिनों से ऐसा देखा जा रहा है कि शिवसेना सार्वजनिक मंचों पर भी भाजपा के खिलाफ आवाज उठाती दिखी है। 
वहीं अमित शाह के गठबंधन से जुड़े अल्टीमेटम वाली खबर पर शिवसेना के संजय राउत ने कहा कि, ‘एक साल पहले ही पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक में प्रस्ताव पास कर चुकी है। हम तब से इसी स्टैंड पर हैं. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के पास इस संबंध में फैसला लेने का पूरा अधिकार है।’ वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के गठबंधन संबंधी बयान पर राउत ने कहा कि, ‘इस देश की राजनीति में शिवसेना को अल्टीमेटम देने वाला अब तक कोई निर्माण ही नहीं हुआ है, अल्टीमेटम शब्द हमारे शब्दकोष में है ही नहीं , ‘
सूत्रों की माने तो लोकसभा चुनावों के लिए अमित शाह ने महाराष्ट्र में बीजेपी के सांसदों से कहा है कि अकेले ही लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी शुरू कर दें। साथ ही अमित शाह ने कहा कि हमें ऐसे गठबंधन में जाने की क्या जरुरत है जब उसके बदले में हमें नुकसान हो।
आपको बता दें कि राम मंदिर और राफेल सौदे को लेकर शिवसेना लगातार बीजेपी पर प्रहार कर रही शिवसेना के राज्यसभा सांसद ने कहा कि अगर राफेल सौदे में कुछ गड़बड़ी नहीं है तो नरेंद्र मोदी सरकार को जेपीसी जांच से नहीं डरना चाहिए। राफेल राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा है और सरकार से सवाल पूछना कोई अपराध नहीं है। वहीं गुरुवार को ही पार्टी के मुखपत्र सामना में छपे संपादकीय में शिवसेना ने कहा है कि उसे इस बात पर ताज्जुब है कि अगर बीजेपी के नेतृत्व वाली वर्तमान सरकार के कार्यकाल में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण नहीं होगा तो आखिर कब होगा ?? पार्टी ने कहा कि अगर राम मंदिर का निर्माण 2019 चुनावों से पहले नहीं हुआ तो यह देश के लोगों को धोखा देने जैसा होगा जिसके लिए बीजेपी को आम जन मानस से माफी मांगनी होगी।
वहीँ दूसरी तरफ कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का गठबंधन हो चुका है जिसकी जानकारी प्रफुल्ल पटेल ने विशेष सूत्रों को दी है ।

Please follow and like us: