कोई किसी को गिराने के लिए कितना गिर सकता है उसका उदाहरण है मेरठ तंदूर कांड

Spread the love

दोस्तो नमस्कार

कोई किसी को नीचे दिखाने के लिए कितना नीचे गिर सकता है, इसका एक ताजा उदाहरण है मेरठ शाखा से वायरल विडियों। जिसमें एक तंदूर के रोटी बनाने वाले का कारनामा तेजी से वायरल हो रहा है। इस विडियों में एक शादी की पार्टी चल रही है जिसके लिए तंदूर लगाया गया है। तंदूर में रोटी सेकी जा रही है। लेकिन रोटी सेकने से पहले रोटी सेकने वाले उसमें अपना थूक लगा रहा है फिर उसे तंदूर में डाल रहा है। ये लोग कौन हो सकते है ये तो आप समझ ही गये होंगे। हमे ज्यादा बताने की जरूरत नहीं है। क्योंकि सनातन धर्म में तो चुल्हे को जलाने से पहले अग्निदेव की पूजा की जाती है। भला कोई सनातन धर्मी ऐसा कैसे कर सकता है। जाहिर है कि यह कोई जेहादी मानसिकता वाले ही होगा। देखते देखते विडियों वायरल हो गया और उसके बाद जो हुआ वह आपको जरूर देखना चाहिए।

बताया जा रहा है कि यह विडियों मेरठ के अरोमा गार्डन की है। जहाँ पर एक शादी समारोह का आयोजन चल रहा है। शादी मे आमतौर पर खाने की व्यवस्था तो होते ही है लेकिन उसमें भी अगर तंदूर की रोटी मिल जाये तो सोने पर सुहागा हो जाता है। इसीलिए शादी में तंदूर रोटी की व्यवस्था की गयी है। लेकिन उनको क्या पता कि तंदूर तो ठिक है लेकिन तंदूर के रोटी बनाने वाले की मानसिकता खराब है। उनको क्या पता कि मेहमान को जो रोटी परोसा जायेगा उसे थूक लगाकर सेका गया है। विधर्मी ऐसा भी करेगा इसका को दूर-दूर तक उम्मीद भी नहीं था। कोई किसी को नीचे गिराने के लिए इतना नीचे गिर सकता है इसका तो अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है। यह तो धन्यवाद विडियों बनाने वाले की जिसने इसका विडियों बना लिया । किसी और के शादी में जाकर भी ऐसी ही हरकते करता उससे पहले ही रोक लिया।

फिलहाल एक महिला समाजसेवी के मदद से पुलिस ने इस जेहादी मानसिकता वाले युवक को गिरफ्तार कर लिया है। धन्य हो उस समाजसेवी महिला यशोदा की जिसने हिम्मत दिखाते हुए रोटी मे थूक लगाने वाले इस तंदूर के कारीगर को हवालात में भिजवा दिया। इसने कितना बड़ा अपराध किया है और इसका क्या सजा होना चाहिए यह तो कानून ही तय करेगा। लेकिन ऐसे कुछ लोगों के वजह से एक बार फिर से कुछ मुस्लिम कारीगर जिन्हे सिर्फ रोजी रोटी से मतलब है वो संदेह के घेरे में आ गये है। एक बार फिर से आवाज उठने लगे है शादी में जांच करों तब रखों। इनसे कोई समान मत खरीदों। आखिर सबका क्या दोष है। मुस्लिम समाज को भी ऐसे युवक के खिलाफ कारवाई करना चाहिए।

खैर हम तो यही मांग करते है कि ऐसे लोगों को सख्त से सख्त सजा मिले।

%d bloggers like this: