मैं, प्रेम सिंह नेगी, थानाध्यक्ष, थाना गाज़ीपुर, दिल्ली

मैं, प्रेम सिंह नेगी, थानाध्यक्ष, थाना गाज़ीपुर, दिल्ली…

आजकल ठगों के अलग अलग गिरोह लोगों को अपना शिकार बनाने में लगें हुए। यहाँ मैं आपको अब आजकल ठगों द्वारा इस्तेमाल होने वाले तरीकों से अवगत करना चाहता हूँ।आपकी थोड़ी सी सावधानी आपको बहुत बढ़े आर्थिक और मानसिक नुकसान से बचा सकती है। एक तरीका है :-

ठक ठक गैंग

🔊ठक-ठक…, आपकी गाड़ी का आयल गिर रहा है…, आपने मेरे पैर पर टायर चढ़ा दिया सुनाई दे तो सावधान हो जाएं। इस पर प्रतिक्रया न करें।🔊

ठक-ठक गैंग में कई बार खासतौर से छोटे-छोटे बच्चे भी होते हैं। इनकी मासूमियत के सामने कोई सोच भी नहीं सकता कि ये इतने खतरनाक भी हो सकते हैं। यह गैंग आमतौर पर रेड लाइट पर व मार्किट में खड़ी खाड़ियों के चालकों को अपना निशाना बनाता है जिनके अंदर बैग, मोबाइल या कुछ सामान आदि रखा हो । यदि शीशे खुले हों तब भी ये प्रयास करते हैं। अगर किसी गाड़ी में ड्राइवर के बराबर वाली सीट पर कोई बैग रखा है

तो इस गैंग का एक सदस्य ड्राइवर का ध्यान भटकाने के लिए ड्राइवर वाली साइड के पीछे की तरफ पत्थर आदि से गाड़ी को ठोकेगा। जैसे ही ड्राइवर पीछे की ओर देखेगा या देखने को नीचे उतरेगा वैसे ही गैंग का दूसरा सदस्य सीट पर रखे व पीछे रखे बैग को लेकर रफूचक्कर हो जाएगा। ध्यान देने वाली बात यह भी है कि कई बार यह अपने शिकार को उस वक्त निशाना बनाते हैं जब रेड लाइट का समय पूरा होने को होता है।

ऐसे में ड्राइवर जल्दबाजी में यह भूल जाता है कि उसकी कार में कुछ कीमती सामान भी रखा है और वह आसानी से इस गैंग का शिकार बन जाता है। यह गैंग कई बार ड्राइवर की साइड वाले दरवाजे की खिड़की के नीचे 10-10के नए नोट डाल कर, आपकी गाड़ी का आयल लीक हो रहा है या आपने मेरे पैर पर टायर चढ़ा दिया है कह कर भी ड्राइवर का ध्यान भटकाता है। और अन्य साथी बैग, मोबाइल व सामान लेकर गायब हो जाता है।

सावधान रहें : अगर गाड़ी में अकेले हैं तो बाकी सभी विंडो ग्लास चढ़ा लें। अगर गाड़ी रेड लाइट या किसी मार्किट में खड़ी है तो ऐसे ठक-ठक., आपकी गाड़ी का आयल गिर रहा है.. आपने मेरे पैर पर टायर चढ़ा दिया की आवाज पर ध्यान न दें। सावधान हो जाएं।कीमती सामान और बैग आदि हमेशा गाड़ी की डिक्की में रखे। मोबाइलअपने हाथ में रखें या फिर गाड़ी में बैठे दूसरे व्यक्ति के हवाले कर दें।

यदि कभी आपका सामना ऐसे गैंग से हो तो कृपया उनके सदस्यों का अपने मोबाइल में फ़ोटो या वीडियो जरूर लें तथा अपने क्षेत्र के पुलिस अधिकारी को भेजें।
आपका सहयोग पुलिस के लिए काफी मददगार हो सकता है।

थाना गाजीपुर अपने निवासियों के लिए सदैव सेवा में है। हमारे क्षेत्राधिकार से सम्बंधित किसी भी समस्या/गलत या आपराधिक गतिविधियों की सूचना आप सीधा मुझ तक विभिन्न माध्यमों से पहुंचा सकते है।

पुलिस-पब्लिक गठजोड़,
अपराध का है असली तोड़ ।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

%d bloggers like this: